अविवाहिता सीए ने गोद ली बच्ची तो महिला चिकित्सक ने ब्लैकमेल कर मांगे 5 लाख

मेरठ. नवजात बच्ची को गोद लेने पर महिला सीए को महिला चिकित्सक द्वारा बच्ची चोरी के आरोप में फंसाने की धमकी देने का मामला सामने आया है। इतना ही नहीं ब्लैकमेल करने वाली महिला चिकित्सक ने महिला सीए से 5 लाख रुपए मुंह बंद करने के एवज में मांगे। मामला थाने पहुंचा तो पुलिस ने भी महिला चिकित्सक का ही साथ दिया। पीड़िता को जांच के नाम पर दरोगा ने भी खेल करना शुरू कर दिया। जब मामला काफी आगे तक निकल गया तो महिला सीए ने अपने वकील रामकुमार शर्मा के साथ कप्तान के पास पहुंचकर गुहार लगाई। जिस पर कप्तान ने सीओ सिविल लाइन को जांच सौंप दी।

यह भी पढ़ें- नाबालिग की शादी में दावत उड़ा रहे थे लोग, चाइल्डलाइन के पहुंचते ही मची अफरा-तफरी

नौचंदी के शास्त्रीनगर में रहने वाली महिला सीए के मकान में महिला चिकित्सक किराए पर रहती थी। महिला चिकित्सक हापुड़ के धौलाना की सीएचसी में बतौर प्रभारी तैनात है। महिला सीए अविवाहित है। उसने शादी नहीं की है। सीए ने अपनी किराएदार महिला चिकित्सक से बच्चा गोद लेने की इच्छा जाहिर की। महिला चिकित्सक के संपर्क में हापुड़ में रहने वाला दंपती आया। जो गर्भ में पल रहे बच्चे का पालन पोषण करने का असमर्थ था। तभी चिकित्सक ने महिला सीए से बातकर बच्चा गोद दिलाने की तैयार शुरू की। दंपती और महिला सीए की आपस में मीटिंग करा दी गई।

नौ अगस्त को महिला ने सीएचसी धौलाना में बच्ची को जन्म दिया। जिसे 20 अगस्त को लिखा पढ़ी के तहत महिला सीए ने गोद ले लिया। आरोप है कि उसके बाद महिला चिकित्सक ने महिला सीए से पांच लाख की मांग की। रकम नहीं देने पर चेतावनी दी गई कि बच्ची चोरी के आरोप में फंसाने की धमकी दी। पीड़िता ने मामले की तहरीर पहले थाने में दी। वहां कोई कार्रवाई नहीं होने पर एसएसपी से शिकायत की। उन्होंने सीओ को जांच कर रिपोर्ट देने के आदेश दिए।

यह भी पढ़ें- गौतमबुद्ध नगर में नाबालिक लड़कियां वहशियों के निशाने पर, 24 घंटे में रेप और छेड़छाड़ की 4 वारदात



Advertisement