नाैसेना के रिटायर्ट अफसरों ने नाेएडा पुलिस पर लगाए गंभीर आराेप, सीएम से कार्यवाही की मांग

नाेएडा (noida news) नौसेना के पूर्व कमांडर राहुल बोस की गिरफ्तारी के मामले में नौसेना के पूर्व अधिकारियों ने गुरुवार को प्रेसवार्ता करके नाेएडा पुलिस ( Noida Police ) पर गंभीर आरोप ( offense ) लगाए हैं। यह अलग बात है कि इन सभी आरोपों काे पुलिस अफसरों ने सिरे खारिज किया है।

यह भी पढ़ें: Covid-19 को हराने के लिए आई आरटी- पीसीआर मशीन, जानिए क्या है खासियत

दरअसल, एक रिटायर्ड कमांडर राहुल व उनके परिवार को नोएडा थाना 49 पुलिस थाने ले गई थी। पूछताछ की बात कहकर करीब 11 घंटे तक उन्हे लॉकअप में रखा। आराेपाें के अऩुसार इनस दाैरान दुर्रव्यवहार भी किया गया। अब रिटायर्ट अफसरों ने सवाल उठाए हैं कि, इस मामले में केंद्रीय मंत्री, प्रदेश मंत्री, रक्षा मंत्रालय समेत पूर्व सैनिक एक माह से कार्यवाही की मांग कर रहे हैं लेकिन काेई कार्रवाई नहीं हाे रह। अब पूर्व सैनकों ने यूपी के सीएम (UP CM Yogi UP CM Yogi Adityanath) से इस बारे में संज्ञान लेने की अपील की है। उधर इस मामले पुलिस अफसरों का कहना है कि जो भी कार्रवाई की गई वह कानून के तहत और साक्ष्यों के आधार पर की है।

जाानिए क्या है पूरा मामला
नोएडा के सेक्टर 76 आदित्य सेलेब्रिटी होम्स सोसायटी में नौसेना के रिटायर्ड कमांडर राहुल बोस परिवार के साथ रहते हैं। उन्होंने बताया कि 4 अप्रैल को सोसायटी में सुरक्षाकर्मियों का परिवार से झगड़ा हो गया था। सुरक्षाकर्मियों का आरोप था कि परिवार बिजली चोरी करता है। बाद में दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया था। एक जुलाई को सोसायटी निवासी व्यक्ति ने इस मामले में राहुल सहित 9 लोगों के खिलाफ थाना सेक्टर 49 में केस दर्ज कराया था। आरोप है कि 10 जुलाई की रात एक बजे थाना सेक्टर 49 पुलिस उन्हें थाने ले आई। अगले दिन उन्हें बेल मिल गई थी। इस मामले को लेकर राहुल बोस ने गुरुवार को सेना के कुछ रिटायर्ड अधिकारियों के साथ नोएडा मीडिया क्लब में प्रेसवार्ता की।

यह भी पढ़ें: गर्लफ्रेंड संग दोस्त के संबंध के शक में पत्थर से कुचलकर की हत्या, सड़क हादसे की रच डाली कहानी

इस मामले में एडीसीपी रणविजय सिंह ने पुलिस अधिकारियों पर लगे आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि पुलिस ने जो भी कार्रवाई की वह कानून के तहत और साक्ष्य के आधार पर की गई है। थाना पुलिस पर जाे भी आराेप लगाए जा रहे हैं वह निराधार हैं।



Advertisement