आधार कार्ड बनवाने के दौरान टूटा लोगों के सब्र का बांध, दो पक्षों में पथराव

मेरठ. कोरोना संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन में बंद हुए आधार कार्ड बनाने का काम करीब 5 महीने बाद फिर से शुरू हो चुका है। आधार कार्ड डाकघर में बनने शुरू हुए तो लोगों के सब्र का बांध टूट गया। पिछले पांच महीने से आधार कार्ड बनवाने और उनमें त्रुटियां सुधरवाने के लिए इंतजार कर रहे लोग का रूख अब डाकघरों की ओर हो गया है। लोग कोरोना संक्रमण की चिंता किए बगैर आधार कार्ड बनवाने की लाइन में लग रहे हैं, जिसके कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें- कोरोना के खौफ के बीच सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बीएड प्रवेश परीक्षा शुरू

लॉकडाउन के बावजूद भी घंटाघर डाकघर में आधार कार्ड बनवाने की लाइन घंटाघर तक पहुंच गई। कोई व्यवस्था न होने के कारण थोड़ी ही देर में लाइन में अव्यवस्था फैलने लगी तो हंगामा शुरू हो गया। इस हंगामे में दो पक्ष आमने सामने आ गए और मारपीट शुरू हो गई। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर ईंट-पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। इसके बाद तो डाकघर में अफरा-तफरी मच गई। मारपीट और पथराव में दो युवक गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। पुलिस ने दोनों घायलों को जिला अस्पताल भर्ती कराया है।

बताया गया कि वैशाली कॉलोनी गढ़ रोड निवासी दो युवक आधार कार्ड बनवाने के लिए मुख्य डाकघर पहुंचे। वे लोग लाइन में लगे थे। इसी बीच नेट धीमे होने की वजह से आधार कार्ड बनने में देरी हुई तो लाइन में लगे लोगों के बीच कहासुनी हो गई। जो कि कुछ देर बाद मारपीट में बदल गई। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच मारपीट हो गई। इस दौरान दफ्तर केबिन का शीशा भी टूट गया।

डाक अधीक्षक हरीश कुमार गुंबर का कहना है कि दो युवक शनिवार को आधार कार्ड बनवाने के लिए आए थे। नेट धीमे होने के कारण कार्य में देरी हुई। उन्होंने बताया कि मारपीट में उप डाक अधिकारी कक्ष के शीशे टूट गए। मौके पर जब पुलिस पहुंची तो मारपीट के आरोपी मौके से फरार हो गए। लाइन में लगे लोगों का कहना था कि आधार बनवाने के लिए बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें- मेरठ-बुलंदशहर हाइवे पर कार-बाइक की टक्कर में बाइक सवार दाेनाें युवकों की माैत, पहचान नहीं



Advertisement