बाढ़ पीड़ितों के बीच पहुंचे सीएम योगी, पीड़ितों को बांटी राहत समाग्री, बोले, किसी को परेशानी नहीं होने देंगे

गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिन के दौरे पर गोरखपुर पहुंचे तो बाढ़ पीड़ितों के बीच पहुंचकर उन्हें ढाढ़स बंधाया। मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ितों को राहत समाग्री बांटी और उन्हें भरोसा दिलाया कि सरकार हर पीड़ित तक सहायता पहुंचाने के लिये तत्पर है। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल के सहयोगी अलग-अलग दिन अलग-अलग जिलों में जाकर प्रभावित लोगों को राहत दिलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने भरोसा दिलाया की पीड़ित परिवारों को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने राहत समाग्री में पांच लीटर मिट़टी का तेल दिये जाने और बाढ़ से नष्ट हुई फसलों का सर्वे कराकर जल्द मुआवजा दिये जाने की बात भी कही। यह भी कहा कि आपदा में किसी की मौत होने पर चार लाख रुपये की मदद दी जा रही है। सांप काटने से किसी की मौत होने पर भी यह मुआवजा दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने बाढ़ राहत समाग्री बांटने के साथ ही सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर कोरोना और बाढ़ की स्थितियों की जानकारी ली।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार की शाम गोरखपुर के पाली ब्लाक अंतर्गत पाली प्यारी देवी डिग्री कालेज परिसर में चड़राव, माठ, विरार और कोहारभार गांवों के बाढ़ पीड़ित परिवारों को राहत समाग्री का वितरण किया। इसके पहले उन्होंने अपने संबोधन में लोगों से संकट के समय धैर्य बनाए रखने का आह्वान किया और भरोसा दिलाया कि सरकार हर संभव मदद करेगी। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण का जीवन हमें धर्म, सत्य और न्याय के पथ पर चलने की प्रेरणा देता है। हम धैर्य बनाए रखते हुए हर चुनौती का सामना कर सकते हैं। हमें कोरोना से बचना है तो बाढ़ से भी निपटना है। कहा कि ऐसे समय में जब देश दुनिया संकट के दौर से गुजर रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समय पर लिये गए निर्णयों से संकट से मुकाबला संभव हो पाया है। उन्होंने कोरोना और बाढ़ संकट से मुबकाबले के लिये शासन-प्रशासन और जनता से एकजुटता का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि प्रशासन को इस बात की सख्त हिदायत दी गई है कि किसी भी पीड़ित और प्रभावित को परेशानी न होने दी जाय। उन्हें समय से राहत समाग्री व दूसरी सुविधाएं मुहैया हो सकें। कहा कि पीड़ितों को हम 10 किलो चावल, 10 किलो गेहूं, आलू, लाई, भुना चना, दाल, तेल, नमक और मिट्टी का तेल दे रहे हैं। कोरोना काल में महीने में दो बार राशन दिये जाने की व्यवस्था की गई है। रसोई गैस कनेक्शन भी दिये जा रहे हैं।


बाढ़ पीड़ितों को राहत समाग्री बांटने के बाद मुख्यमंत्री ने सर्किट हाउस पहुंचकर वहां अधिकारियों संग बैठक कर कोनोना व बाढ़ की स्थितियां जानीं। बीआरडी मेडिकल कालेज में निर्माणाधीन चाइल्ड केयर अस्पताल के निमार्ण कार्य की भी समीक्षा की। प्रशासन को सख्त हिदायत दी कि पीड़ितों को निराश न किया जाय। उन्होंने कहा कि तीन साल के प्रयासों से पूर्वी यूपी में इंसेफेलाइटिस से हर साल जुलाई से नवंबर के बीच होने वाली 1200 से 1500 मौतों में 90 फीसदी तक की कमी आई है। कहा कि जिस तरह इंसेफेलाइटिस, डेंगू और मलेरिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों से बचाव में जनसहयोग से सार्थक परिणाम मिले हैं उसी तरह सब मिलकर कोरोना को भी हरा देंगे।



Advertisement