कोरोना वायरस बढ़ा रहा मानसिक तनाव, डिप्रेशन में जा रहे लोग

ललितपुर. प्रदेश में कोविड-19 (Covid-19) का संक्रमण बढ़ रहा है और इसी के साथ बढ़ रहे हैं डिप्रेशन के किस्से। कोरोना काल में लोगों में अकेलेपन की भावना बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाई जा रही मानसिक हेल्पलाइन सेवा में अपनी सेवा दे रही मनोवैज्ञानिक डॉ. अंशु चौहान बताती हैं कि कोरोना काल में घर में रहने वाले बच्चे और बुजुर्गों पर इसका गहरा प्रभाव पड़ रहा है। लोग घर में रह कर खुद को कैद महसूस कर रहे हैं। युवाओं में भी इन दिनों भविष्य की चिंता को लेकर मानसिक दवाब बढ़ रहा है।

कोरोना काल में ज्यादातर नौकरियां चली गई हैं। जहां नौकरी है, वहां सैलरी कट रही है। ऐसे में दिमागी परेशानी लोगों को परेशान कर रही है। मनोचिकित्सकों का कहना है कि कोरोना काल के इन हालात से निपटने के लिए समय का सही इस्तेमाल करना चाहिए। उनके मुताबिक जिन विषयों में रूचि हैं उन पर किताबें पढ़नी चाहिए, घर में पेड़ और पौधों से भी सकारात्मकता का एहसास हो सकता है। लखनऊ से मनोचिकित्सक डॉ. अनिरुद्ध केशव कहते हैं कि मानसिक तनाव लगातार बने रहने से वो डिप्रेशन में तब्दील हो जाता है। इसके लक्षणों को पहचानना जरूरी है और इसके साथ ही सकारात्मक सोच होना भी जरूरी है। लक्षणों को पहचानकर आपको काउंसलर से संपर्क करना होगा या अपने किसी करीबी को अपनी समस्याओं के बारे में बताने की जरूरत है। मानसिक परेशानी के ये लक्षण भी हो सकते हैं-

  • - नींद में गड़बड़
  • - पीठ में दर्द
  • - चिड़चिड़ापन
  • - एकाग्रता की कमी
  • - गुस्सा
  • - खराब हाजमा

मानसिक तनाव दूर करने के उपाय

  • - मनपसंद काम करना
  • - अच्छा म्यूजिक सुनना
  • - खुद को बिज रखें
  • - हेल्दी फूड का सेवन करें
  • - नींद प्रॉपर लें
  • - किताबें पढ़ें

ये भी पढ़ें: कोरोना के कहर से काल के गाल में समाए लोग, कुल मरीजों की संख्या हुई 513



Advertisement