अब खतरे में नहीं पड़ेगा बच्चों का जीवन, इन्हें निमोनिया से बचाएगी पीसीवी वैक्सीन

आजमगढ़. अब निमोनिया के चलते किसी बच्चे की मौत नहीं होगी। बच्चों को निमोनिया जैसी गंभीर बीमारी से बचाने के लिए उनका टीकाकरण किया जाएगा। टीकाकरण अभियान 10 अगस्त से आजमगढ़ सहित प्रदेश के 56 जिलों में शुरू होगा। बच्चों को निमोनिया से बचाने के लिए डेढ़ माह, साढ़े तीन माह व नौ माह पर पीसीवी वैक्सीन लगायी जाएगी। इसकी सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।

 

प्रभारी चिकित्साधिकारी अतरौलिया डॉ शिवाजी सिंह ने बताया कि 10 अगस्त से आजमगढ़ सहित 56 जिलों में न्यूमोकोकल कंज्यूगेट वैक्सीन (पीसीवी) की शुरुआत की जाएगी। इसके साथ ही पीसीवी राष्ट्रीय नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल हो जाएगा। इसके लिए सभी आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को एएनएम के माध्यम से ट्रेनिंग दी जा रही है जिसका सुपरविजन ब्लॉक प्रोग्राम मैनेजर (बीपीएम) द्वारा किया जा रहा है।

 

बीपीएम शिव कुमार यादव ने बताया कि अब से ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस (वीएचएसएनडी) में डेढ़ माह, साढ़े तीन माह और नौ माह के बच्चों को भी पीसीवी का टीका लगेगा। यह वैक्सीन बच्चों को निमोनिया से बचाएगी। उन्होंने बताया कि डेढ़ महीने पर पीसीवी के साथ ही पेंटा-1, ओरल पोलियो, रोटा वायरस का टीका भी लगेगा। इसके बाद साढ़े तीन महीने अर्थात 56 दिन के अंतराल पर पेंटा-3, रोटा वायरस, आईपीवी-3 के साथ पीसीवी-2 लगेगा। इसके बाद नौ महीने पर मीजल्स-रुबेला (एमआर), जेई, विटामिन-ए की खुराक के साथ पीसीवी बूस्टर लगेगा। यह वैक्सीन कान का इन्फेक्शन, खून का इन्फेक्शन, दिमागी बुखार का इन्फेक्शन दूर कर उससे बचाव करेगी।

 

10 अगस्त से शुरू होने वाले बाल स्वास्थ्य पोषण माह (बीएसपीएम) में नौ माह से पाँच वर्ष तक के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक भी दी जाएगी। साथ ही उनका टीकाकरण, वजन, स्तनपान की स्थिति, कुपोषित बच्चों के उपचार, आयोडीन युक्त नमक के उपयोग की जानकारी देने आदि का कार्य किया जाएगा।

By Ran Vijay Singh



Advertisement