बरसात ने यूपी के इस जिले में कर दिए मुम्बई से हालात, तालाब बनी सड़केें

मुजफ्फरनगर ( muzaffarnagar news) बरसात ने सिटी क्षेत्र में मुम्बई जैसे हाला कर दिए। नगर पालिका परिषद के तमाम दावे पानी में बह गए और सड़के जैसे तालाब बन गई। कुछ ही घंटों की बरसा में चारों ओर जैसे पानी-पानी हाे गया।

यह भी पढ़ें: गंग नहर में कूदकर आत्महत्या करने जा रहे युवक की पुलिस ने दाैड़कर बचाई जान

बरसा ( rain ) में मुजफ्फरनगर के सबसे प्रसिद्ध स्थान शिव चौक का तो आलम यह हाे गया कि कि वहां पर घंटों तक कई फिट पानी रुका रहा। इसके अलावा नई मंडी में जानसठ रोड फ्लाईओवर के नीचे पॉश कॉलोनी की कई गलियां जलमग्न हाे गई। कृषि उत्पादन मंडी समिति की स्थिति तो सबसे ज्यादा खराब थी जहां कई घंटों तक मंडी में पानी भरा रहा। यहां तक की कई दुकानों में पानी घुस गया।

यह भी पढ़ें: एक और किडनैप: 5 साल के मासूम का अपहरण, मांगी 30 लाख की फिरौती, अगले दिन बस मेें मिला

( weather update ) मंडी समिति के गार्ड रूम में दो फीट से भी ज्यादा पानी भरा देखा गया। इस पूरे मामले में नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल से बातचीत की गई तो तो उन्हाेंने पूरा ठीकरा जल निगम के ऊपर फोड़ दिया। जल निगम मुजफ्फरनगर में कई जगह पर सीवर लाइन डाल रहा है। जो काम पिछले कई माह से चल रहा है। मगर जल निगम द्वारा मानक के अनुरूप काम ना करने की वजह भी शहर में जलभराव का कारण बना है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में पांच करोड़ जुर्माना भुगत चुके हैं यूपी के इस शहर के लाेग

नगर पालिका परिषद के चेयरमैन अंजू अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने अपने कार्यकाल में लगातार प्रयास किया है कि शहर से जलभराव की समस्या खत्म हो मगर जैसे ही नगरपालिका शहर के नालों की सफाई करती है तो लोग कुछ ही दिनों में उनमें गोबर पन्नी और कूड़ा आदि डाल कर नाले को फिर भर देते हैं। इसलिए उन्होंने नगर को स्वच्छ और सुंदर रखने के लिए लोगों से अपील की है कि नगर को स्वच्छ और सुंदर रखने के लिए उनका सहयोग करें। यानी साफ है कि उन्हाेंने जलभराव की समस्या के लिए भी शहर की जनता काे ही जिम्मेदार ठहरा दिया।



Advertisement