ई-संजीवनी ऐप के जरिए अब सामान्य ओपीडी के साथ विशेषज्ञ डॉक्टरों से ले सकेंगे सलाह

ललितपुर. कोरोना संक्रमण (Covid-19) को देखते हुए प्रदेश सरकार ने घर बैठे चिकित्सीय परामर्श प्रदान करने के लिए टेलिमेडिसिन (ई-संजीवनी) ओपीडी सेवा की शुरुआत की है, ताकि अस्पताल में अनावश्यक भीड़ को नियन्त्रित कर कोरोना के खतरे को कम किया जा सके। इसका ऐप डाउनलोड कर लोग घर बैठे ही डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। डिस्ट्रिक्ट कम्यूनिटी प्रोसेस मैनेजर (डीसीपीएम) गणेश ने बताया कि लोगों को घर बैठे ओपीडी सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश सरकार ने पहली जुलाई से ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा की शुरुआत की थी। वर्तमान में जनपद के सभी 40 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर नियुक्त समुदाय स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) की मदद से लोगों का पंजीकरण कर टेलीमेडिसिन द्वारा चिकित्सीय परामर्श दिलाया जा रहा है। यदि किसी मरीज के पास एंड्राइड मोबाइल नहीं है, तो ऐसे मरीजों को सीएचओ खुद अपने मोबाइल से चिकित्सा तकनीकी विशेषज्ञ के जरिए उन्हें सलाह उपलब्ध कराने में मदद करेगा। इसके अलावा जिन लोगों के पास स्मार्टफोन है वह ई-संजीवनी ऐप या वेबसाइट के जरिये रजिस्ट्रेशन करके ओपीडी सेवा का लाभ ले सकते हैं। ई-संजीवनी ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। ई-संजीवनी के तहत दिया जा रहा परामर्श नि:शुल्क है।

उन्होंने बताया की समुदाय स्वास्थ्य अधिकारी को लगभग पांच ओपीडी करने का लक्ष्य दिया है। न्यू पीएचसी में यह लक्ष्य 10 व् अर्बन पीएचसी में 20 ओपीडी है| साथ ही प्रदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज में तैनात चिकित्सक द्वारा आम जन मानस को इस सुविधा का लाभ दिया जा रहा है। जनपद अभी मंडल में दूसरे स्थान पर है और अभी तक 200 से अधिक लोगों को इसका लाभ ले चुके हैं। इसके लिए जनपद स्तर पर भी एक हब बनाया जा रहा है जहाँ 4 डॉक्टर सहित 4 ऑपरेटर की नियुक्ति की जानी है।

टेलीमेडिसिन सेवा से युक्त होंगे सभी पीएचसी/ सीएचसी और सब सेंटर

डीसीपीएम ने बताया दोपहर 1 से 4 बजे तक लोग चिकित्सकों से सलाह ले सकते हैं। इस सेवा के ज़रिये हृदय, किडनी, आँख, कान, गला, हड्डी आदि से सम्बंधित गंभीर बिमारियों से ग्रसित मरीज़ भी डॉक्टरी सलाह और उचित इलाज ले सकेंगे। उन्होंने बताया कि सरकार ने इस साल के अंत तक प्रदेश के सभी जिलों के पीएचसी/ सीएचसी और सबसेंटरों पर टेलीमेडिसिन सेवा शुरू करने का निर्णय लिया है।

ये भी पढ़ें: मंदिर से पहले पूरी हो जाएंगे करोड़ों के प्रोजेक्ट, रामवन गमन पथ सरकार की पहली प्राथमिकता



Advertisement