अयोध्या में अक्टूबर माह में खुलेगा पहला विदेशी मुद्रा एक्सचेंज काउंटर

अयोध्या. अयोध्या में पहला विदेशी मुद्रा एक्सचेंज काउंटर अक्टूबर माह तक खुल जाएगा। विदेशी मुद्रा एक्सचेंज काउंटर से करीब दस देशों के श्रद्धालु और पर्यटक अपनी करेंसी को भारतीय मुद्रा यानि की रुपए में बदल सकेंगे। राम मंदिर निर्माण में विदेशी भक्तों से दिए जा रहे दान में सुविध हो जाएगी। यह अयोध्या में यह बड़ा फैसला भारतीय स्टेट बैंक ने लिया है।

अयोध्या की एसबीआई शाखा के शाखा प्रबंधक प्रियांशु शर्मा के अनुसार, अयोध्या में पर्यटकों की सुविधा को लेकर स्टेट बैंक विदेशी पर्यटकों के लिए मुद्रा एक्सचेंज काउंटर खोलने जा रहा है। इसके लिए आरबीआई से अनुमति भी मिल चुकी है। यह विदेशी मुद्रा काउंटर अक्टूबर तक चालू हो जाएगा। अयोध्या जनपद में यह पहला काउंटर होगा जिसमें 10 से अधिक मुद्रा को एक्सचेंज किया जा सकेगा।

विदेशी मुद्रा काउंटर से मिलेगी मदद :- विदेशी मुद्रा काउंटर की वजह से राममंदिर निर्माण के लिए मिलने वाले दान का सिलसिला तेज होने की संभावना है। राममंदिर ट्रस्ट के सदस्य डॉ.अनिल मिश्र ने बताया कि पांच लाख रुपए तक का ऑनलाइन भुगतान बैंक में सीधे आ रहा है। एक लाख रुपए का दान देने वालों की एक बड़ी संख्या है। संबंधित दानदाताओं के नामों की जानकारी लेकर उनके नाम से ट्रस्ट की रसीद धन्यवाद पत्र के साथ उनके पते पर भेजी जाएगी।

तेज हो जाएगी दान प्रक्रिया :- मंदिर निर्माण के लिए दानकर्ताओं ने मुंह खोले कर दान देना शुरू कर दिया है, अभी यह प्रक्रिया धीमी है पर संभव है कि यह तेज हो जाएगी। वैस अभी तक ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष महंत गोविंद देव गिरि ने अपने गुरुदेव व भारत माता मंदिर के संस्थापक ब्रह्मलीन संत स्वामी सत्यमित्रानंद महाराज की स्मृति में सवा लाख का दान घोषित किया। महावीर ट्रस्ट, पटना पहले ही दस करोड़ रुपए दान का ऐलान कर चुका है। इसमें दो करोड़ रुपए की पहली किस्त ट्रस्ट के खाते में हस्तांतरित कर दी गयी है।

मिल रहा है दान :- स्वामी रामभद्राचार्य ने भी एक करोड़ 51 लाख के दान का ऐलान किया है। साबरकांठा, गुजरात के वनवासी क्षेत्र के स्वामी शांति गिरि ने भी 51 लाख दान की घोषणा की है। इसी तरह से हरिद्वार की एक संस्था से जुड़े संत ने 25 लाख व हरियाणा के दूसरे संत की ओर से 31 लाख ट्रस्ट के खाते में भेजे जा चुके हैं। उधर रामजन्मभूमि ट्रस्ट के ट्रस्टी व निर्मोही अखाड़े के महंत दिनेन्द्र दास ने भी ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्र को 1.21 लाख का चेक भेंट किया। यह चेक महंत श्री दास के शिष्य सुलतानपुर के जरई कला निवासी शिव नायक की ओर से राम मंदिर निर्माण के लिए दिया गया।



Advertisement