मनचलों की छेड़छाड़ के कारण अमेरिका में पढ़ने वाली CBSE Topper सुदीक्षा सड़क हादसे में मौत

ग्रेटर नोएडा। फिर से एक तारा टूट गया। सड़क खून से हुई लाल और एक परिवार का सपना बिखर गया। सोमवार को मनचलों की छेड़छाड़ के कारण गौतमबुद्ध नगर के आसमान का चमकता सितारा टूट गया। दरअसल, सोमवार को दादरी तहसील के डेयरी स्कैनर की रहने वाली होनहार छात्रा सुदीक्षा अपने चाचा के साथ स्कूटी से सिकंदराबाद जा रही थी। औरंगाबाद गांव के पास मोटर साइकिल ने स्कूटी में टक्कर मार दी। इस हादसे में सुदीक्षा की मौके पर मौत हो गई। सुदीक्षा को अमेरिका के बॉक्सन कॉलेज से चार करोड़ की स्कॉलरशिप मिली थी। कोरोना संकट के कारण वह जून में अमेरिका से लौटी थी। उसे 20 अगस्त को वापस अमेरिका लौटना था।

यह भी पढ़ें महिला ने बच्चों के साथ नहर में छलांग लगाई, मां बेटे की माैत बेटी की हालत गंभीर

घायल चाचा का आरोप है कि बुलेट मोटर साइकिल सवार दो मनचले लगातार छेड़छाड़ रहे थे और फब्तियां कस रहे थे। साथ ही स्टंट कर रहे थे। जिसके चलते मोटर साइकिल ने स्कूटी में टक्कर मार दी और सुदीक्षा सड़क पर गिर पड़ी। जिससे उसके सिर में चोट लग गई। इस दौरान किसी ने उनकी मदद नहीं की और समय पर अस्पताल नहीं पहुंचने पर सुदीक्षा की मौत हो गई। वहीं परिजनों की तहरीर पर बुलंदशहर पुलिस ने अज्ञातों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। मोटर साइकल सवारों की तलाश की जा रही है।

कोविड-19 के कारण गांव लौट आई थी

पिता के मुताबिक सुदीक्षा भाटी ने एचसीएल फाउंडेशन के स्कूल विद्या ज्ञान से पढ़ाई की थी। वर्ष 2018 में सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा में 98 फीसदी अंक प्राप्त जिले का नाम रोशन किया था। टॉप करने के कारण सुदीक्षा को अमेरिका के बॉक्सन कॉलेज में दाखिला मिल गया था। इसके बाद उसे 3.83 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई थी। जून में वह कोविड-19 के कारण गांव लौट आई थी। 20 अगस्त को उसे अमेरिका जाना था।

यह भी पढ़ेें: मेरठ में शराब की दुकान के सामने बैठी महिलाएं कर रही राम नाम का भजन

98 फीसदी अंक हासिल कर जिले में टॉप किया था

सुदीक्षा के पिता ने बताया कि वर्ष-2018 की सीबीएसई परीक्षा में उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में 98 फीसदी अंक हासिल कर जिले में टॉप किया था। वह सिकंदराबाद के दूल्हेरा गांव के विद्या ज्ञान स्कूल की छात्रा थी। सुदीक्षा का चयन वर्ष-2011 में विद्या ज्ञान लीडरशिप एकेडमी स्कूल में हुआ था। वहीं से उसकी जिंदगी में बदलाव आया। सुदीक्षा बॉक्सन कॉलेज से इंटरशिप में ग्रेजुएशन कर रही थी। वह बचपन से ही पढ़ने में काफी होशियार थी। स्कूल की तरफ से स्कॉलरशिप के लिए अमेरिका में आवेदन किया था। अगस्त वर्ष-2018 में सुदीक्षा अमेरिका चली गई थी।



Advertisement