Ganesh Chaturthi: गणेश चतुर्थी पर जानें शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि, इस तरह करें बप्पा की पूजा

लखनऊ. इस साल 22 अगस्त को गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) मनाई जाएगी। गणेश चतुर्थी के दिन लोग गणपति बप्पा की मूर्ति अपने घर लाते हैं और 11 दिन तक इस त्योहार को मनाने के बाद विसर्जन किया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार विघ्नहर्ता श्री गणेश जी का जन्म भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन ही हुआ था, इसलिए इस दिन गणेश चतुर्थी या विनायक चतुर्थी मनाई जाती है। गणेश जन्मोत्सव के दिन गणपति की विशेष आराधना की जाती है, ताकि वे व्यक्ति के जीवन के सभी संकटों का नाश कर उसकी हर मनोकामना को पूरा कर दे। आइये जानते है कि इस बार पड़ने वाली गणेश चतुर्थी पर क्या है शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि।

गणेश चतुर्थी मुहूर्त

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 21 अगस्त शुक्रवार की रात 11 बजकर 02 मिनट से शुरू होगी और 22 अगस्त शनिवार को शाम 07 बजकर 57 मिनट तक रहेगी। धार्मिक मान्यता के अनुसार गणेश चतुर्थी की पूजा हमेशा दोपहर के मुहूर्त में की जाती है क्योंकि गणेश जी का जन्म दोपहर में हुआ था। 22 अगस्त को दिन में 11 बजकर 6 मिनट से दोपहर 01 बजकर 42 मिनट के मध्य भगवान गणेश की पूजा का शुभ मुहूर्त निकल रहा है।

इस तरह करें पूजा

गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन करना वर्जित है। बप्पा की पूजा करने के लिए किसी चौकी पर आसन लगाकर प्रतिमा को स्थापित करना चाहिए। इसके बाद एक कलश में सुपारी डालें और नए कपड़े में बांधकर रखें। गणेश जी को लड्डू या मोदक का भोग लगाएं। इसके बाद बाद लड्डूओं को प्रसाद के रुप में बांटें। गणेश जी की पूजा में कथा और पूजा के अंत में गणेश जी की आरती करनी चाहिए।

ये भी पढ़ें: बाढ़ के पानी में खड़े होकर पुलिस कर्मियों ने किया ध्वजारोपण



Advertisement