मुख्यमंत्री योगी ने 10 से 50 करोड़ की परियोजनाओं की वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से की समीक्षा

श्रावस्ती. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से श्रावस्ती जिले में हो रहे 10 करोड़ से 50 करोड़ तक की परियोजनाओं की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने समीक्षा के दौरान कहा कि जिले में जोे भी विकास कार्य कराये जा रहे हैं उनकी गुड़वत्ता में कोई कमी न होने पाए। अगर विकास कार्यों और निर्माणाधीन कार्यों को सम्पादित करने में किसी विभागीय अधिकारी की लापरवाही मिली तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने श्रावस्ती विधायक राम फेरन पाण्डेय से निर्माणाधीन विकास परियोजनाओं की प्रगति के बारे में फीडबैक भी लिया।

शिक्षा के क्षेत्र में जिले को 7वां स्थान

वीसी के दौरान जिलाधिकारी टीके शिबु ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि नीति आयोग द्वारा चयनित महत्वाकांक्षी जनपदों में श्रावस्ती भी शामिल है। इसके अन्तर्गत स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा, कृषि आदि क्षेत्र में विकास कार्य किये जा रहे है। नीति आयोग द्वारा माह जनवरी-फरवरी में वित्तीय समावेशन एवं कौशल विकास के क्षेत्र में सम्पूर्ण भारत में जनपद को 15वां स्थान प्राप्त होने पर 3 करोड़ रुपये दिये जाने के लिए जिले को चयनित किया गया है। जुलाई माह में शिक्षा के क्षेत्र में जिले को 7वां स्थान प्राप्त हुआ है।

जिलाधिकारी ने बताया कि राजस्व वसूली के बारे में मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि जनपद के वार्षिक लक्ष्य 19760.52 लाख रुपये के सापेक्ष कर्मिक उपलब्धि 4193.98 लाख रुपये है। कोविड-19 के लिए सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकाल के अनुरुप मरीजों को सभी सुविधाऐं मुहैया करायी जा रही हैं। होम आइसोलेटेड मरीजों की स्वास्थ्य टीम द्वारा बराबर देखभाल की जा रही है। हरदत्त नगर गिरंट में निर्माणाधीन पाॅलीटेक्निक, भिनगा में जनपद न्यायालय व श्रावस्ती में रीजनल कनेक्टीविटी स्कीम के अन्तर्गत नो फिल्स एयरपोर्ट, भिनगा में नवीन मण्डी स्थल का निर्माण एवं राजस्व अधिकारियों व कर्मचारियों हेतु आवास निर्माण कार्य कराये जा रहे है। घर-घर नल योजना के अंतर्गत पूर्व से ही 22 ग्राम पंचायतों के 90 मजरों में पाइप पेयजल की व्यवस्था चल रही है। और वित्तीय वर्ष 2020-21 में 7 परियोजनाओं की और स्वीकृति मिली है। जिनका कार्य पूरा हो जाने पर 7 ग्राम पंचायतों के माध्यम से 45 और मजरों में पाइप पेयजल से पानी मुहैया कराया जायेगा।

ये भी पढ़ें: स्वास्थ विभाग द्वारा अब तक 84771 संदिग्धों का हुआ कोरोना टेस्ट, 32 हुए ठीक



Advertisement