अयोध्या में पांच माह में पूरा हो जाएगा राम मंदिर के 1200 खम्भों का निर्माण कार्य

अयोध्या. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो गया हैं भूमि के अंदर 1200 खम्भे बनाएं जाएंगे। खम्भों का काम तीन दिन में शुरू हो जाएगा। और उम्मीद की जा रही है कि, ये सभी 1200 खम्भों का निर्माण कार्य पांच माह के अंदर पूरा हो जाएगा। यह खंभे बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इन्हीं खम्भों पर मंदिर की इमारत खड़ी की जाएगी।

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र मंगलवार को पूर्वाह्न करीब दस बजे रामजन्मभूमि पहुंचे और रामलला के दर्शन किए। इसके बाद उन्होंने परिसर में मंदिर निर्माण के लिए प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने परिसर के उन जर्जर भवनों को भी देखा, जिन्हें ध्वस्त किया जा रहा है।

अयोध्या विकास में अलग तरह की चुनौतियां :- चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र ने बताया कि आर्किटेक्ट फर्म सोमपुरा ने इसे डिजाइन किया है। आईआईटी चेन्नई मिट्टी की जांच कर रहा है। केंद्र सरकार चाहती है कि अयोध्या का विकास अंतरराष्ट्रीय मानक पर हो। अयोध्या पुराना शहर है इसलिए उसके विकास में अलग तरह की चुनौतियां हैं। प्रदेश सरकार अयोध्या के विकास के लिए परियोजना तैयार कर रही है।

गुलाबी पत्थर लाना बड़ी चुनौती :- चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र ने बताया कि मंदिर निर्माण में सबसे बड़ी चुनौती राजस्थान से पत्थरों को लाना, उन्हें तराशना और फिर स्थापित करना है। दरअसल पांच हजार साल तक बरकरार रहने वाले एकमात्र राजस्थान के बंशीपहाड़पुर के गुलाबी पत्थरों की खदानों से पत्थर निकासी पर राजस्थान के भरतपुर जिला प्रशासन ने रोक लगा दी है। ट्रस्ट करीब 36 करोड़ रुपए मूल्य के 4.5 लाख घनफीट गुलाबी पत्थरों का ऑर्डर देने की तैयारी में था।

नींव की खुदाई शुरू :- अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए नींव की खुदाई का काम 8 सितम्बर से शुरू हो गया। पहले चरण में सौ मीटर गहराई तक फिर इसे दो सौ मीटर गहराई तक खोदा जाएगा। आखिरी तल में खंभों का चौरस आधार भी बनेगा। श्रीराम जन्मभूमि परिसर में गहराई तक खुदाई करने वाली भारी भरकम विशिष्ट और अत्याधुनिक कैसाग्ग्रैंड और अन्य मशीनें लाई जा चुकी हैं। कुछ और मशीनें जल्द ही अयोध्या पहुंच जाएंगी।



Advertisement