जमानत मिलने के 4 दिन बाद फिर गिरफ्तार हुए गायत्री प्रजापति, ये है पूरा मामला

लखनऊ. अखिलेश यादल सरकार में मंत्री रह चुके गायत्री प्रजापति की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं। धोखाधड़ी और धमकी देने के मामले में गायत्री प्रजापति के खिलाफ गाजीपुर थाने में एक नया मामला दर्ज होने के बाद उन्हें स्थानीय अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। फिलहाल गायत्री प्रसाद प्रजापति को केजीएमयू में भर्ती कराया गया है। आपको बता दें कि बीती चार सितंबर को ही उच्च न्यायालय ने प्रजापति को दो महीने की अंतरिम जमानत दी थी। जिसके बाद वह बाहर आये थे। गायत्री प्रजापति लखनऊ जेल में कई महीनों से बंद थे।

पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस के मुताबिक उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में वकालत करने वाले वकील दिनेश चंद्र त्रिपाठी की शिकायत पर लखनऊ के गाजीपुर थाने में प्रजापति, सविता पाठक, उसकी बेटी अनन्या और एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ धोखाधड़ी करने और धमकी देने का मामला दर्ज किया गया है। त्रिपाठी ने आरोप लगाया है कि प्रजापति के खिलाफ 2017 में बलात्कार का मुकदमा दायर करने वाली सविता पाठक नामक महिला के वह वकील थे। बाद में सविता ने उनसे मुकदमे को कमजोर कर प्रजापति को छुड़ाने के लिए अभियुक्तों के पक्ष में अदालत में शपथ पत्र देने को कहा था। त्रिपाठी ने जब इसका विरोध किया तो सविता नाराज हो गई और उनके खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कराने की धमकी दी।



Advertisement