Bike Bot का 50 हजार का इनामी डायरेक्टर गिरफ्तार, 56 केसों में था वॉन्टेड

मेरठ। बाइक बोट घोटाले का एक और आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। हत्थे चढा आरोपी कंपनी का डायरेक्टर बताया जा रहा है। इस पर 50 हजार का इनाम था।

बहुचर्चित बाइक बोट घोटाले में मेरठ की ईओडब्ल्यू शाखा को सोमवार को बड़ी सफलता हासिल हुई है। नोएडा के 56 मुकदमों में वांछित चल रहे बाइक बोट कंपनी के डायरेक्टर सुनील कुमार प्रजापति को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस घोटाले में ये सबसे बड़ी गिरफ्तारी मानी जा रही है। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था।

ईओडब्ल्यू की शाखा के अफसरों ने बताया कि अब तक इस मामले में 12 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। गिरफ्तार कंपनी का डायरेक्टर नोएडा के 56 मुकदमों में वांटेड था। पिछले दिनों प्रदेश के अलग-अलग जिलों में कुल 178 बाइक बरामद की गई थी। मेरठ से इसमें 45 बाइक बरामद हुई थी। ओडब्‍ल्‍यू का अनुमान था कि इसमें कुल 4 हजार करोड़ का घोटाला हुआ है। इस मामले में अलग-अलग स्थानों से अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुके हैं। मेरठ में सोमवार को ईओडब्‍ल्‍यू ने इसके डायरेक्‍टर बुलंदशहर के गांव नवादा निवासी सुनील कुमार प्रजापति को गिरफ्तार कर इस मामले का राजफाश किया है। इस मामले में कई जगहों पर सुनील के खिलाफ कई जिलों में मुकदमा दर्ज हैं, इनमें सबसे ज्‍यादा 56 मामले नोएडा में दर्ज हैं।

ईओडब्लू मेरठ सेक्टर के एएसपी डॉ. रामसुरेश यादव ने बताया कि बाइक बोट कंपनी द्वारा किए गए घोटाले के सबसे पहले मुकदमें नोएडा में दर्ज हुए। इन मुकदमों की पूर्व में जांच नोएडा पुलिस द्वारा की गई। जिसके बाद शासन ने 14 फरवरी 2020 को नोएडा में दर्ज 57 मुकदमों की विवेचना ईओडब्ल्यू मेरठ सेक्टर को सौंप दी गई।



Advertisement