कोरोना मेडिकल इक्विपमेंट खरीद में हुए घोटा’ले पर सीएम योगी का बड़ा एक्शन, उठाया ये कदम !

उत्तरप्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने के बाद जबसे सीएम योगी आदित्यनाथ ने सत्ता सं’भाली है तभी से उन्होंने प्रदेश की कानू’न व्यवस्था और भ्र’ष्टा’चार को लेकर जी’रो टॉ’लरेंस नीति अपनाई है. सत्ता में आने के बाद से ही सीएम योगी अपरा’धियों पर लगातार क’हर बनकर टू’ट रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें पिछले कई दिनों से सूबे के टॉप अ’पराधि’यों पर का’र्रवाई कर उनकी अ’वैध और गलत तरीके से बनाई गई संप’त्ति को ज’ब्त किया जा रहा है. वहीं अभी हाल ही में कोरोना के चलते मेडिकल इक्विपमेंट खरीद में घोटाले को लेकर सीएम योगी ने ब’ड़ी कार्र’वाई की है.

दरअसल सीएम योगी को जानकारी दी गयी थी कि कई जिलों में थर्मा’मीटर और ऑ’क्सीमी’टर की ख’रीद में घोटा’ला हुआ है. वहीं इससे पहले सुल्तानपुर के लंभुआ से बीजेपी विधायक देवमणि द्विवेदी ने कोरोना कि’ट की खरीद में घो’टाले के आ’रोप लगाते हुए सीएम योगी से शिकायत की थी. जिसपर सीएम योगी ने त’त्काल सं’ज्ञान लिया.

गौरतलब है कि सीएम योगी ने इसकी जांच अपर मुख्य सचिव पंचायती राज मनोज कुमार को सौंपी. जिसके बाद मनोज कुमार सिंह ने प्रा’रंभिक तौर पर मार्केट रेट से ज्यादा दर पर खरीदने के आरो’प को सही बताया. जिसके बाद मनोज कुमार सिंह ने गाजीपुर और सुल्तानपुर के DPRO को नि’लंबि’त कर दिया. साथ ही जिलाधिकारियों को भी सूचित किया गया कि पल्स ऑ’क्सीमीटर व इन्फ्रारेड थर्मामीटर का भु’गतान 2800 रुपये से ज्यादा न किया जाए. वहीं सीएम योगी ने अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार की अध्यक्षता में S’IT का गठ’न कर दिया है जोकि 10 दिन में जां’च कर शा’सन को रिपोर्ट सौंपेगी.



Advertisement