आशिक ने खोला राज, इश्क की राह में रोड़ा बना लेखपाल तो मार दी गोली

आजमगढ़. एक युवक जिस लड़की से प्रेम करता था जिसके साथ पूरी जिंदगी जीने का सपना संजोये था जब उसी लड़की पर लेखपाल का दिल आ गया तो युवक बर्दाश्त नहीं कर पाया और लेखपाल को गोली मार दी। इसका खुलासा मंगलवार को उस समय हुआ जब पुलिस ने आरोपी युवक को फरिहां के पास सैनिक ढाबे के सामने से गिरफ्तार किया। आरोपी युवक को हत्या के प्रयास में जेल भेज दिया गया। उसके साथियों की तलाश में पुलिस जुटी है।

गंभीरपुर थाना क्षेत्र के रोहुआ मुस्तफाबाद के पास एक सितंबर की शाम 6.30 बजे बाइक सवार बदमाशों ने लेखपाल अतुल यादव को गोली मार दी थी। इस मामले में लेखपाल के पिता राममूरत यादव पुत्र स्व. बेनी प्रसाद यादव निवासी बहादुरपुर थाना गम्भीरपुर ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया था।

आरोपी को पुलिस ने दबोचा :- पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी थी कि प्रभारी निरीक्षक गंभीरपुर राजेश कुमार सिंह को मंगलवार को मुखबिर ने सूचना दी कि लेखपाल को गोली मारने वाला आरोपी आजमगढ़ वाराणसी राजमार्ग पर फरिहा के पास स्थित सैनिक ढाबे के सामने मौजूद है और कहीं भागने की फिराक में है। इसके बाद प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार सिंह, उप निरीक्षक अभिषेक कुमार सिंह के साथ मौके पर पहुंचे और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए युवक ने अपना नाम वीर प्रताप चैहान पुत्र यशवन्त निवासी शाहगढ़ थाना सिधारी बताया। पुलिस ने उसके पास से घटना में प्रयुक्त बाइक पिस्टल.32 बोर व दो जिंदा कारतूस बरामद किया।

एक लड़की से करता था प्रेम :- पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह पिछले चार-पांच वर्षों से एक लड़की से प्रेम करता है। अब लेखपाल अतुल यादव भी उस लड़की से बातचीत करने लगा है। उसने लड़की को अतुल यादव से बातचीत करने को मना किया लेकिन फिर भी अतुल यादव व उस लड़की में बातचीत होना बंद नहीं हुआ। इसी बात को लेकर वह लेखपाल अतुल यादव को रास्ते से हटाने का फैसला किया।

लेखपाल जिंदा बच गया :- एक सितंबर को वह एक दुकान पर बैठा था उसी समय उसका दोस्त सूरज गौड़ पुत्र दिनेश गौड़ निवासी खूरसू खास थाना देवगाँव मिला। सारी बात जानने के बाद सूरज गौड़ ने किसी को फोन किया तो मैं व सूरज अपाचे मोटर साइकिल से आजमगढ़ से चलकर लेखपाल अतुल यादव का पता लगाते हुए बिन्द्रा बाजार पहुंचे जहाँ पर सूरज गौड़ का एक और मित्र मिला जो कि सूरज गौड़ के फोन करने पर आया था । इसके बाद तीनों ने मिलकर योजना बनाई और लेखपाल की हत्या करने के उद्देश्य से उसका पीछा करते हुए सूनसान जगह देख सूरज से कहा कि यही लेखपाल है उसे गोली मार दे।

सूरज गौड़ ने लेखपाल अतुल यादव को जान मारने की नियत से पिस्टल से गोली मार दी और पीछे बैठे तीसरे लड़के ने उसकी मोटर साइकिल में लात मार दी। इसके बाद लेखपाल अतुल यादव रोड के किनारे गिर गया। फिर वे तीनों फरार हो गए लेकिन लेखपाल जिंदा बच गया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बाकी के दोनों आरोपियों की तलाश जारी है जल्द ही उन्हें भी पकड़ लिया जाएगा।



Advertisement