मजदूर की छत से गिरकर मौत, रेलवे दोहरीकरण का करता था काम

अमेठी. लखनऊ से वाराणसी दोहरीकरण में रेलवे स्टेशन जायस पर केइसी कंपनी के तहत कार्य कर रहे एक दैनिक मजदूर की छत से गिरकर मौत हो गई। मृतक के साथी बताते है कि बृहस्पतिवार शुक्रवार की रात मृतक अपने दो दर्जन से अधिक साथियों के साथ खाना खाकर छत पर सो रहा था। सुबह देखा गया तो मृतक आंगन में पड़ा मिला मृत अवस्था मे देख ठेकेदार ने केइसी कंपनी को सूचना दी। कंपनी ने घटना की सूचना कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर शव को पीएम हाउस भेज दिया है।

कोतवाली क्षेत्र जायस के रेलवे स्टेशन जायस पर भी लखनऊ वाराणसी रेलवे दोहरीकरण के तहत लाइन बिछाने का कार्य चल रहा है। जनपद हरदोई के थाना सुरसा अन्तर्गत तुरतीपुर निवासी 40 वर्षीय प्रभु पुत्र द्वारिका ने बताया कि मेरे साथ 28 लोग काम करते है। सभी दैनिक मजदूर रोजाना काम से छुट्टी मिलने के बाद बगल के निर्माणाधीन रेलवे आवास में रहते है और वहीं सुबह शाम खाना बनाकर खाते पीते है। इसी क्रम में बृहस्पतिवार की शाम काम से छुट्टी मिलने के बाद सभी दैनिक मजदूर कालोनी में खाना बनाकर खा पीकर छत पर लेट गए थे।

ठेकेदार प्रभु ने बताया कि सुबह साढ़े पांच बजे जब वे उठे तो जनपद हरदोई के थाना क्षेत्र सुरसा के सहिमापुर निवासी 35 वर्षीय नीलू आंगन में गिरा पाया गया। वह छत से गिरा था। उसके कान से खून निकल रहा था और उसकी मृत्यु हो चुकी थी। ठेकेदार ने बताया कि घटना की सूचना तत्काल केइसी कंपनी को दी गई। केइसी कंपनी ने घटना की सूचना कोतवाली पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा कर उसे पीएम के लिए भेजकर घटना की सूचना उसके परिजनों को दे दी। बताते है कि मृतक के परिवार में सिर्फ एक छोटा भाई को छोड़कर और कोई नहीं है। उधर इस मामले में केइसी कंपनी के चीफ मैनेजर जुबेर अहमद ने बताया कि घटना की सूचना ठेकेदार के माध्यम से मिली थी। मृतक के सहयोगी को क्रिया कर्म के लिए तत्काल 25 हजार रुपये की मदद कंपनी की तरफ से कर दी गई है।

ये भी पढ़ें: सीएम योगी का बड़ा फैसला, केंद्र की तर्ज पर यूपी में भी एक ही संस्था कराएगी भर्ती परीक्षाएं



Advertisement