लालू के जंगलराज के भूत से डरी राजद? पार्टी के होर्डिंग से गायब हुए लालू, छाया है सिर्फ तेजस्वी का चेहरा

बिहार में चुनावी सरगर्मियां काफी बढ़ चुकी है. सड़कों पर पोस्टर और बैनर टंगने शुरू हो गए हैं. एक तरफ जहाँ एनडीए के पोस्टर पर नीतीश कुमार और पीएम नरेंद्र मोदी छाये हैं वहीँ दूसरी तरफ राजद के पोस्टर पर तेजस्वी छायें हैं. लेकिन इस बार राजद के पोस्टर में एक चौंकाने वाला बदलाव देखने को मिला है. राजद के पोस्टर से लालू यादव गायब हैं. RJD मुख्यालय के बाहर टंगे एक होर्डिंग पर सिर्फ तेजस्वी यादव नज़र आ रहे हैं. इस पोस्टर पर अन्य नेताओं तो छोडिये, लालू यादव तक की तस्वीर गायब है. होर्डिंग पर तेजस्वी की तस्वीर के साथ लिखा है ‘नई सोच नया बिहार, युवा सरकार अबकी बार.’

राजद के होर्डिंग से लालू का गायब होना वाकई चौंकाने वाला है. ऐसा लगता है कि तेजस्वी यादव मतदाताओं को अपने पिता की जंगलराज की यादों से दूर रखना चाहते हैं. 15 सालों तक बिहार पर शासन करने वाले लालू यादव का युग जंगलराज के नाम से बदनाम है और आज भी उस दौर की याद आने पर लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं, जब राज्य में अपहरण एक उद्योग बन गया था. शाम ढलते ही राज्य की सड़कें सुनी हो जाती थी और जातीय वैमनस्य चरम पर था. ये वो दौर था जब युवाओं का बिहार से पलायन होने लगा.

आज भी हर चुनाव में जंगलराज का भूत राजद पर हावी रहता है. 2015 के चुनाव में राजद और जेडीयू का गठबंधन था. नीतीश के चेहरे पर लडे गए इस चुनाव ने राजद के लिए संजीवनी का काम किया. और लगभग ख़त्म होने के कगार पर पहुँच चुकी पार्टी ने वापसी की. लेकिन इस बार समीकरण बदले हुए हैं. एक बार फिर नीतीश भाजपा के साथ हैं. ये वही जोड़ी है जिसने लालू को सत्ता से उखाड़ फेंका था. इस बार शायद फिर राजद अपनी ही जंगलराज की यादों से डरा हुआ है. पार्टी के होर्डिंग से लालू का गायब होना शायद मतदाताओं को जंगलराज की यादों से दूर रखने की कवायद है.



Advertisement