मामा और नेता मिलकर चला रहे थे गांजे का काला कारोबार, प्लानिंग ऐसी कि अच्छे-अच्छे धोखा खा जाए

ग्रेटर नोएडा। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड की जांच के मामले में ड्रग कनेक्शन मिलने के साथ ही यूपी पुलिस और एसटीएफ इस काले कारोबार का पर्दाफाश करने में जुटी गई है। इस सिलसिले में एसटीएफ की नोएडा यूनिट को उस समय एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई, जब उसने एनसीआर में अवैध गाँजा की सप्लाई करने वाले दो तस्करो को करोड़ों मूल्य के गांजा के साथ गिरफ्तार किया। एसटीएफ की यूनिट ने इन दोनों तस्करो मध्य प्रदेश के तहसील चौराहा आगरा कोटा रोड सुसनेर की है। दो दिन पहले ही ग्रेयर नोएडा बीटा 2 थाने की पुलिस ने छह अंतरराज्यीय तस्करों को गिरफ्तार कर सवा तीन करोड़ मूल्य का मादक पदार्थ बरामद किया था।

एडिशनल एसपी एसटीएफ राजकुमार मिश्रा ने बताया कि एसटीएफ़ को उसके सूत्रों से लगातार यह सूचना मिल रही थी, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश राज्यों से मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले अपराधी सक्रिय हैं। जब एसटीएफ ने अपने मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया को जानकारी मिली कि भद्राचलम से आगे तेलंगाना, आंध्र प्रदेश बार्डर के पास से एक ट्रक ने अवैध सामग्री की बड़ी खेप वारंगल से मध्य प्रदेश होते हुए उत्तर प्रदेश के आगरा से बुलंदशहर होते हुए गाज़ियाबाद आने वाला है।

इस सूचना पर एसटीएफ की टीम ने कार्रवाई करते हुए दोनों तस्करो मध्य प्रदेश के तहसील चौराहा आगरा कोटा रोड सुसनेर से गिरफ्तार किया उससे पूछताछ में पता चला कि उनके नाम शुभम त्यागी और लोकेश कुमार हैं अवैध गांजे की सप्लाई वरंगल से गाज़ियाबाद लाते हैं। जहां तक इस अवैध गाँजा का वितरण अन्य ड्रग पेडलर्स के माध्यम से एनसीआर क्षेत्र में कराया जाता है ।

एसटीफ की टीम ने शुभम त्यागी और लोकेश कुमार के कब्ज़े से 1727 किलोग्राम अवैध गांजा बरामद मिला है, जिसका का अंतरराष्ट्रीय मूल्य लगभग साढ़े चार करोड़ रुपए है। पकड़े गए शुभम त्यागी और लोकेश कुमार ने पूछताछ में बताया की अवैध गांजा सप्लाई के इस कारोबार में मुख्य रूप से सुनित चौधरी उर्फ मामा और इरफान उर्फ नेता निवासी गाज़ियाबाद शामिल है। इरफान उर्फ नेता आंध्र प्रदेश में रहकर अवैध गाँजा की लोडिंग का काम दिखता है और ट्रांसपोर्ट की ज़िम्मेदारी सुनित चौधरी उर्फ मामा की होती है। सुनित ने अपना गोदाम गाज़ियाबाद में बनाया हुआ है। जिसके बारे में अधिक जानकारी अभी हासिल की जा रही है।

एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपी लोकेश कुमार रिश्ते में सुनित चौधरी उर्फ मामा का जीजा लगता है। अवैध गाँजा का ट्रांसपोर्ट करने के लिए इस संगठन ने बंद बॉडी की ट्रक के अंदर बडा केबिन बना रखा है जिसमें अवैध गाँजा का ट्रांसपोर्टेशन करते हैं। इस अवैध गांजा के लिए सुनित चौधरी को पांच सौ रुपए किलोग्राम मिलता है और ट्रांसपोर्टर लोकेश कुमार, शुभम त्यागी का केयरटेकर का काम भी देखता है। उसके बताए रास्ते पर ही ट्रांसपोर्ट की गाड़ी को चलाता है। जिसके लिए शुभम त्यागी को एक लाख प्रति चक्कर दिया जाता है।



Advertisement