जेई बनकर युवती का शोषण कर रहा था युवक, परिजन रिश्ता लेकर ऑफिस पहुंचे तो खुला राज

मेरठ. टाईपिस्ट ने जेई बनकर एक युवती को अपने प्रेमजाल में फंसा लिया और उसका कई महीने तक यौन शोषण करता रहा। जेई बने टाईपिस्ट की जब युवती के सामने पोल खुली तो उसने अपने परिजनों से पूरी बात बताई, जिसके बाद युवती के परिजनों ने फर्जी जेई को जमकर धुना। किसी तरह पुलिसकर्मियों ने उसे युवती के परिजनों से छुड़ाया। युवती के परिजन थाने में युवक के खिलाफ तहरीद दी है।

यह भी पढ़ें- एक्शन में एसएसपी, एक साथ तीन थानाध्यक्षों काे किया लाइन हाजिर, जानिए वजह

दरअसल, मामला थाना लिसाड़ी गेट क्षेत्र का है। जहां एक युवक ने जेई बनकर युवती को प्रेमजाल में फंसा लिया। हाईडिल विभाग में विजिलेंस की टीम हर थाना क्षेत्र में गठित की है। थाना कंकरखेड़ा में भी विजिलेंस थाना बनाया गया है। उसी विभाग में संविदा पर लिसाड़ी गेट निवासी एक युवक रोहित टाईपिस्ट का काम करता है। रोहित ने विभाग की एक गाड़ी के पास खुद को खड़ा करके मोबाइल से अपना फोटो बनाया और युवती के वॉटसऐप नंबर पर भेज दिया। युवती ने जब उससे पूछा तो टाइपिस्ट ने अपने को हाईडिल में जेई बताया। करीब आठ महीने तक फर्जी जेई युवती को अपने प्रेम के झांसे मे लेकर उसका यौन शोषण करता रहा। युवती ने अपने परिजनों से युवक से शादी करने की इच्छा जताई। इस पर परिजन भी मान गए और युवक से मिलने कंकरखेड़ा थाना पहुंच गए।

जब युवक के बारे में विभाग के अन्य लोगों से जानकारी की तो पता चला कि वह तो संविदा कर्मचारी के तौर पर टाईपिस्ट है। इस पर युवती के परिजनों का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया। उन्होंने रोहित को बुलाया और उसे जमकर पीटा। किसी तरह पुलिसकर्मियों ने उसे युवती के परिजनों से छुड़ाया। युवती के परिजनों ने थाने में युवक के खिलाफ तहरीद दी है। वहीं युवक का कहना है कि वह अब भी युवती से शादी करने के लिए तैयार है, लेकिन युवती के परिजन शादी के लिए तैयार नहीं हैं। युवती के परिजन फर्जी जेई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर उसे जेल भिजवाने पर अड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें- कार से प्रॉपर्टी डीलर का शव बरामद हत्या की आशंका



Advertisement