वीवीआईपी जिले में लगातार साइबर अपराधियों पर क्राइम ब्रांच ने कसा शिकंजा, फिर पकड़ा गया साइबर अपराधी

रायबरेली . खीरों क्षेत्र में बढ़ रहे साइबर अपराध को रोकने के उद्देश्य से क्राइम ब्रांच रेलवे लखनऊ और रायबरेली की संयुक्त टीम ने रविवार को थाना क्षेत्र के मुख्यालय कस्बा खीरों में रफी ट्रवेल्स नाम से संचालित साइबर कैफे में छापेमारी की । कैफे से टीम को एक आई डी पर सात टिकट बनाए जाने की जानकारी मिली । लैपटाप नहीं खुलने किए कारण पांच अन्य आई डी मौके पर नहीं खुल सकी। जिसके बाद टीम ने साइबर कैफे के संचालक के लैपटॉप आदि को कब्जे में ले लिया। तीसरे ही दिन दूसरी बार हुई इस छापेमारी से कैफे संचालकों में हड़कम्प मच गया। कई कैफे संचालक दुकानें बंद कर भाग खड़े हुए । क्राइम टीम के अनुसार देर शाम लेपटॉप खुलने पर पांच प्राइवेट आई डी पर दो सौ इकहत्तर टिकट रेलवे के जारी किए गए हैं।अभियुक्त के खिलाफ 143 रेलवे अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर विधिक कार्यवायी की जाएगी।

फिर पकड़ा गया साइबर अपराधी

क्राइम ब्रांच टीम प्रभारी यशवन्त सिंह व थाना जीआरपी रायबरेली के इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार अवस्थी की संयुक्त टीम द्वारा खीरों में छापेमारी की। जहां पर उन्हे कैफे संचालक मोहम्मद रफी की एक आईडी के द्वारा रेलवे के सात टिकट बनाए हुये मिले । जबकि उसकी अन्य आईडी लैपटाप बंद होने के कारण मौके पर नहीं खोलीं जा सकी । टीम के इंचार्ज जसवंत सिंह ने बताया कि खीरों कस्बा में संचालित कई साइबर कैफे के संचालक अपनी यूजर आईडी से अवैध रूप से रेलवे की टिकटों की बुकिंग कर रहे हैं । जिसका कैफे संचालको व रेलवे के पास यात्रा करने वाले का असली विवरण नहीं मिल पाता है । रेलवे मे लगातार हो रही अधिकान्स घटनाओ मे पाया गया है की अपराधी इस तरह अवैध टिकटों के माध्यम से यात्रा करते है । तथा मौका पाते ही दूसरे यात्रियों के साथ ट्रेन में लूटपाट, छिनैती जैसी आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते हैं । जिसके बाद उनका असली पता नहीं होने के कारण उन्हे खोजने मे दिक्कत होती है । इस तरह के साइबर कैफे द्वारा रेलवे टिकट के नाम पर दलाली के रूप मे मोटी रकम ली जाती है । तथा फर्जी टिकटों के माध्यम से रेलवे विभाग को लाखों रुपये प्रतिवर्ष राजस्व का नुकसान किया जा रहा है ।

टिकट बनाने के पकड़े गए कई उपकरण

खीरों कस्बा निवासी मोहम्मद रफी चालित साइबर कैफे में छापेमारी की गई । जिसमे मौके पर सात अवैध टिकट,एक मोबाइल, लैपटाप आदि उपकरण बरामद किए गए हैं । देरशाम लेपटॉप खुलने पर पांच प्राइवेट आई डी पर दो सौ इकहत्तर टिकट जारी किए जाने की सूचना मिली है।संचालक को हिरासत में लेकर पास की रेलवे चौकी बछरावा पहुंचाया जा रहा है । जहां 143 रेलवे अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर अभियुक्त को कोर्ट में पेश किया जाएगा । वही दुकाने बंद कर फरार होने वाले अन्य संचालको की भी जांच की जाएगी । इस मौके पर क्राइम ब्रांच रेलवे लखनऊ की टीम के प्रभारी यशवन्त सिंह , थाना जीआरपी रायबरेली के प्रभारी प्रमोद कुमार सभी टीम में शामिल रहे।



Advertisement