कोरोना के कारण आधी हो गई शराब की खपत, आबकारी विभाग के आंकड़ों में सामने आई ये बात

लखनऊ. लॉकडाउन (Lockdown) में बीयर की दुकानों को खोलने की अनुमति मिली, तो शराब के शौकीनों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। शराब की दुकानों के बाहर पियक्कड़ों की लंबी भीड़ भी रहती थी। लेकिन अब उन्हीं शराब की दुकानों के बाहर अब भीड़ के लिए राह देखनी पड़ती है। पहले की तुलना में शराब की डिमांड कम हो गई है। कोरोना संक्रमण (Corona Virus) के कारण लोगों ने इससे तौबा कर लिया है। आबकारी विभाग के आंकड़े बताते हैं कि अप्रैल से अगस्त के दरम्यान प्रदेश में पिछले साल के मुकाबले बीयर की खपत आधी रह गई है।

विभाग के अफसर और फुटकर विक्रेताओं के प्रतिनिधियों का कहना है कि कोल्ड ड्रिंक, आईस्क्रीम आदि अन्य ठंडी चीजों ही तरह ठण्डी बीयर से भी शौकीनों ने कोरोना संक्रमण के डर के चलते तौबा कर रखी है। हालांकि कोरोना संकट से उपजी आर्थिक दुश्वारियों ने देसी और अंग्रेजी शराब की खपत का ग्राफ भी गिराया है, मगर तुलनात्मक तौर पर बीयर की खपत में सबसे ज्यादा गिरावट आई है।

अंग्रेजी शराब का हाल

इस साल अंग्रेजी शराब सात करोड़, आठ लाख बोतल बिकी है। पिछले साल की तुलना में यह कम है। पिछले साल अंग्रेजी शराब नौ करोड़, 63 लाख बोतल बिकी थी। इसी तरह इस साल बीयर 13 करोड, 18 लाख केन बिकी, जबकि पिछले साल बीयर- 24 करोड़, 25 लाख केन बिकी थी।

अप्रैल से अगस्त के बीच

इस साल देसी शराब तीन करोड़ आठ लाख 63 हजार, 300 लीटर बिकी। पिछले साल देसी शराब तीन करोड़ 84 लाख 82 हजार, 845 लीटर बिकी थी। इस साल अंग्रेजी शराब एक करोड़ 25 लाख 35 हजार, 400 बोतल बिकी। जबकि पिछले साल अंग्रेजी शराब एक करोड़ 84 लाख 27 हजार, 500 बोतल बिकी। इस साल बीयर- दो करोड़ 41 लाख 26 हजार, 560 केन। पिछले साल बीयर चार करोड़ 51 लाख 90 हजार, 200 केन बिकी थी।

ये भी पढें: सीमैप ने बनायी बुढ़ापा रोकने की चाय, हर दिन दो कप की सिप हमेशा रखेगी जवान



Advertisement