सर... मैं तीन दिन से सो नहीं पाई हूं, इतना कहते ही आईएएस अधिकारी के सामने गिर पड़ी 'दीपिका'

अमरोहा. सर... मैं तीन दिन से सो नहीं पाई हूं। जनप्रतिनिधि और कर्मचारी प्रताड़ित करते हैं। मुझे पुलिस सुरक्षा चाहिए। यह कहते ही नगर पंचायत जोया की अधिशासी अधिकारी दीपिका शुक्ला जिलाधिकारी के सामने उनके कार्यालय में बेहोश होकर गिर गईं। यह देखते ही अधिकारियों व कर्मचारियों में खलबली मच गई। आनन-फानन में जिलाधिकारी उमेश मिश्र ने दीपिका शुक्ला को अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद हालत सामान्य होने पर उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई गई। इसके साथ ही डीएम ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें- प्रस्तावित फिल्म सिटी के साइट को देखने के लिए अपर मुख्य सचिव ग्रेटर नोएडा पहुंचे

दरअसल, यह घटना अमरोहा जिलाधिकारी कार्यालय की है। जहां अधिशासी अधिकारी दीपिका शुक्ला अपनी शिकायत लेकर पहुंची थीं। दीपिका शुक्ला ने बताया कि कुछ दिनों से कुछ जनप्रतिनिधि और कर्मचारी उनका उत्पीड़न कर रहे हैं। वह जहां भी जाती हैं, उनका पीछा किया जाता है। उनके खिलाफ नगर पंंचायत कर्मचारियों से गलत शिकायतें कराई जाती हैं। जाेया के कुछ जनप्रतिनिधि ऐसा इसलिए करवा रहे हैं कि उनके रहते वह अपने मंसूबे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं।
उन्होंने बताया कि इसलिए कुछ दिनों से वह काफी परेशान हैं। उन्होंने बताया कि तीन दिन पहले तो दबंगई की हद हो गई। एक कर्मचारी को पीट दिया गया। उसके बाद से तरह-तरह की धमकियां दिलाई जा रही हैं। उनका दिमाग इस कदर परेशान हो गया कि वह तीन दिन से इस टेंशनबाजी में सो भी नहीं सकी। शनिवार दोपहर को वह जिलाधिकारी से मिलने उनके कार्यालय गई थी, ताकि पुलिस सुरक्षा मिल सके। इस दौरान जिलाधिकारी को पूरी स्थिति से वाकिफ कराते-कराते अचानक चक्कर आ गए और वह बेहोश हो गईं। अब स्थिति में सुधार है। डीएम ने पुलिस सुरक्षा उपलब्ध करा दी है।

इस संबंध में जिलाधिकारी उमेश मिश्र ने बताया कि अधिशासी अधिकारी मेरे कार्यालय में आई थीं। वह अपनी बात बताते-बताते अचानक चक्कर खाकर गिर गईं। इसके बाद उनको तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल उनके स्वास्थ्य में सुधार है। उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया करा दी गई है। उनकी शिकायत पर जांच कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें- डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या करने वाले कुख्यात सुनील राठी की सवा करोड़ की संपत्ति कुर्क



Advertisement