आधी रात को जेल से निकलते ही डॉ. कफील ने सीएम योगी को लेकर दिया बड़ा बयान, बताया अपना डर

लखनऊ. इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के लगभग 12 घंटे बाद डॉक्टर कफील खान को मथुरा जेल से मंगलवार देर रात रिहा किया गया। कफील के वकील इरफान गाजी ने बताया कि मथुरा जेल प्रशासन ने रात करीब 11 बजे उन्हें यह सूचना दी कि डॉक्टर कफील को रिहा किया जा रहा है। उसके बाद रात करीब 12 बजे उन्हें रिहा किया गया। जेल से रिहाई के बाद कफील ने अदालत का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि वह उन तमाम शुभचिंतकों के भी हमेशा आभारी रहेंगे जिन्होंने उनकी रिहाई के लिए आवाज उठाई। उन्होंने सरकार से दोबारा नौकरी देने की मांग की है जिससे वो संकट के इस दौर में लोगों की मदद कर सकें। उन्होंने सीएम योगी को लेकर भी बड़ा बयान दिया और कहा कि उत्तर प्रदेश में राजा राज धर्म नहीं निभा रहे, बल्कि वह बालहठ कर रहे हैं। आशंका जताई कि कि सरकार उन्हें फिर किसी मामले में फंसा सकती है।


डॉ. कफील को फिर से फंसाए जाने की आशंका

डॉ. कफील ने कहा कि प्रशासन उन्हें अभी भी रिहा करने को तैयार नहीं था, लेकिन लोगों की दुआओं की वजह से वह छूटे हैं। मगर उन्हें आशंका है कि सरकार उन्हें फिर किसी मामले में फंसा सकती है। कफील ने कहा कि गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में हुए ऑक्सीजन कांड के बाद से ही सरकार उनके पीछे पड़ी है और उनके परिवार को भी काफी कुछ सहन करना पड़ा है। कफील ने कहा कि वह अब बिहार और असम जाकर वहां के बाढ़ ग्रस्त इलाकों में पीड़ित लोगों की मदद करना चाहेंगे। उन्होंने कहा कि रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने कहा था कि राजा को राजधर्म निभाना चाहिए, लेकिन उत्तर प्रदेश में राजा राज धर्म नहीं निभा रहा, बल्कि वह बालहठ कर रहे हैं।


हाईकोर्ट ने दिया था रिहाई का आदेश

आपको बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज के असिस्टेंट प्रोफेसर रहे डॉक्टर कफील को सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर भड़काऊ बयान देने के मामले में एनएसए के तहत जेल भेजा गया था। जिसके बाद मंगलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर कफील खान पर लगाए गए एनएसए को अवैध करार देते हुए उसे रद्द किया और उन्हें तुरंत जेल से रिहा किये जाने के आदेश दिया। साथ ही अदालत ने इस मामले में तल्ख टिप्पणी करते हुए यूपी के सरकारी अमले के कामकाज और फैसले पर सवाल भी उठाए।



Advertisement