पूर्व सपा विधायक आरिफ अनवर हाशमी गिरफ्तार, करोड़ों की जमीन कब्जाने का आरोप

बलरामपुर. समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी को आखिरकार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी पर धोखाधड़ी और लोक संपत्ति निवारण अधिनियम जैसे गंभीर मुकदमा दर्ज थे। पूर्व विधायक और उनके परिजनों पर कूट रचित दस्तावेजों के सहारे फर्जी अभिलेख बनाकर तमाम सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जा करने का भी आरोप है। इस संबंध में सादुल्लाह नगर थाने में दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए जा चुके थे। पहले मुकदमे की जांच क्राइम ब्रांच की टीम कर रही थी, दूसरे मुकदमे की विवेचना पुलिस कर रही है। दोनों ही मुकदमों में धोखाधड़ी, लोक संपत्ति निवारण अधिनियम जैसी गंभीर धाराओं में भी मुकदमा पंजीकृत किया गया है। इन दोनों ही मुकदमों में आरिफ अनवर हाशमी तथा उनके परिजन और राजस्व कर्मी भी आरोपी हैं।

शनिवार को भारी संख्या में पुलिस बल के साथ क्राइम ब्रांच की टीम ने पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी को उनके घर सादुल्लाह नगर से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस आरिफ अनवर हाशमी को लेकर न्यायालय पहुंची, जहां से न्यायालय ने गिरफ्तार पूर्व विधायक को जेल भेज दिया है। आरिफ अनवर हाशमी 2007 में सादुल्लाह नगर विधानसभा क्षेत्र से सपा के विधायक थे जबकि 2012 में उतरौला विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के विधायक चुने गए थे। आरिफ अनवर हाशमी पर सरकारी अभिलेखों में हर हेराफेरी कर कूट रचित दस्तावेजों के सहारे ग्राम समाज की तालाब नवीन परती और विद्यालय की जमीन हड़पने का आरोप है और इस सम्बंध में सादुल्लाह नगर थाने में 2 मुकदमे भी दर्ज किए जा चुके हैं। 2 दिन पूर्व एसपी देव रंजन वर्मा ने पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी और उनके भाई मारूफ अनवर हाशमी के चार शस्त्र लाइसेंसों के निरस्त्रीकरण की रिपोर्ट डीएम कृष्णा करुणेश को भेज चुके हैं। आरिफ अनवर हाशमी की गिरफ्तारी के बाद से राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मच गया है।

यह भी पढ़ें : पूर्व सपा विधायक समेत 14 पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, हेरा-फेरी कर करोड़ों की जमीन कब्जाने का आरोप



Advertisement