रघुवंश बाबु के निधन पर पीएम मोदी ने दुःख जताते हुए लिखा कि ‘रघुवंश बाबू के जाने से…’

बिहार की राजनीति के धु’रं’ध’र, दिग्गज और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने आज दुनिया को अलविदा कह दिया है. वो कुछ वक़्त से बीमार चल रहे थे और दिल्ली एम्स में इलाज के लिए भर्ती थे. दो दिन पहले ही उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल से इस्तीफ़ा दिया था. उनके अ’चा’न’क नि’ध’न से राजनीतिक जगत में शो’क की लहर दौड़ गई. रघुवंश प्रसाद सिंह राजद के संस्थापक सदस्यों में से एक थे और लालू यादव के बेहद करीबी थे. राजनीति में दोनों का साथ कई वर्षों का था.

शुक्रवार देर रात अ’चा’न’क ही रघुवंश प्रसाद सिंह की त’बी’यत ज्यादा बिगड़ गई, जिसके बाद उन्हें वेटिंलेटर सपोर्ट पर रखा गया. डॉक्टर लगातार उनकी सेहत की निगरानी कर रहे थे. लेकिन त’बी’य’त लगातार बिगड़ रही थी. इस बीच रविवार को परिजनों ने उनके नि’ध’न की पुष्टि की. रघुवंश बाबु के निधन पर पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए दुःख जताया है.

पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ‘बिहार के दिग्गज नेता श्रीमान रघुवंश प्रसाद जी अब हमारे बीच नहीं रहे हैं. मैं उनको नमन करता हूं. रघुवंश बाबू के जाने से बिहार और देश की राजनीति में शून्य पैदा हुआ है. जमीन से जुडा व्यक्तित्व, गरीबी को समझने वाला व्यक्ति, पूरा जीवन बिहार के सं’घ’र्ष में बिताया. जिस वि’चा’र’धा’रा में वो पले बढे, जीवन भर उसको जीने का प्रयास किया. मैं जब बीजेपी के संगठन कार्यकर्ता के रूप में काम करता था उस का’ल से मेरा उनसे निकट परिचय रहा.’

पीएम मोदी ने आगे कहा कि ‘तीन चार दिन पहले उन्होंने अपनी भावना को चिट्ठी लिखकर प्रकट भी किया था. लेकिन साथ-साथ उन्हें अपने क्षेत्र के विकास की चिं’ता भी थी. इसलिए उन्होंने विकास कामों की एक सूची भी मुख्यमंत्री को भेज दी. बिहार के लोगों की चिंता वह उस चिट्ठी में प्रकट होती है. मैं नीतीश जी से जरूर आग्रह करूंगा कि रघुवंश बाबू ने अपनी आखिरी चिट्ठी में जो भाव’ना’एं प्रकट की है उसे प’रि’पू’र्ण करने के लिए आप और हम मिलकर पूरा प्रयास करें’.



Advertisement