सीएम योगी ने मेरठ में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए फिर किया नई टीम का गठन

मेरठ. जिले में कोरोना संक्रमण रोकने के सभी प्रयास नाकाम साबित हुए हैं। लखनऊ से भी अब तक तीन बार टीमों का गठन कर कोरोना संक्रमण रोकने के प्रयास किए गए, लेकिन हर टीम के बाद जिले में संक्रमण का दायरा बढ़ता ही गया। अब जबकि सितंबर माह में ही 25 तारीख तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 2800 पार हो गई है तो ऐसे में सीएम आदित्यनाथ योगी ने एक और टीम को मेरठ में संकमण नियंत्रित करने के लिए भेजा है। शनिवार को यह टीम मेरठ पहुंचकर संक्रमण के नियंत्रण उपायों पर चर्चा के साथ ही मेरठ मेडिकल में हो रही मौतों की समीक्षा भी करेगी।

यह भी पढ़ें- सावधान: बच्चों के लिए वायरस ही नहीं मास्क भी नुकसानदायक, जानिए कैसे

लखनऊ से आ रही इस नई टीम में प्रमुख सचिव पी. गुरुप्रसाद वरिष्ठ नोडल अधिकारी और विशेष सचिव अरुण प्रकाश नोडल अधिकारी के अलावा सर्जन डा. सुरेंद्र कुमार शामिल हैं। मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डाॅ. अशोक तालियान भी शासन की टीम के साथ रहेंगे। बताया जा रहा है कि ये टीम पूरे सप्ताह मेरठ में रूकेगी और मेडिकल के कोविड-19 वार्ड में हर तरह की जांच के साथ ही मेरठ में बढ़ रहे संक्रमण पर भी चर्चा करेगी।

इस दौरान टीम मेडिकल काॅलेज समेत अन्य सभी कोविड केंद्रों का निरीक्षण करेगी। निजी अस्पतालों को कोरोना बचाव के लिए प्रेरित भी करेगी। चार सदस्यीय इस टीम में दो आईएएस अधिकारी और दो डाॅक्टर शामिल हैं। पी. गुरुप्रसाद प्रशासन के साथ मीटिंग कर कोरोना से होने वाली मौतों को नियंत्रित करने की योजना बनाएंगे। वह तीन बार मेरठ में बतौर नोडल अधिकारी आ चुके हैं। उनके प्रयासों से ही कोविड मरीजों के लिए रेमिडीसीवीर इंजेक्शन और हाई फ्लो नेजल कैनुला उपलब्ध हुए थे।

मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रशासन ने निजी अस्पतालों को कोविड वार्ड खोलने के लिए कहा है। इस कड़ी में तीन अस्पतालों में कोविड वार्ड खोलने की तैयारी है। जिले में सवा दो सौ बेड अतिरिक्त उपलब्ध हो जाएंगे। मंडलायुक्त और जिलाधिकारी ने एल-1 और एल-2 कोविड बेड बढ़ाने के लिए कहा है। सीएमओ डाॅ. राजकुमार ने बताया कि संतोष अस्पताल में सौ बेडों का कोविड वार्ड अंतिम चरण में है। लखनऊ से आ रही टीम इन संभावित कोविड केंद्रों का निरीक्षण करेगी। मानकों पर खरा उतरने के बाद ही संस्‍तुति दी जाएगी।

यह भी पढ़ें- कोरोना संक्रमण फैलने की रफ्तार सितम्बर में सबसे तेज, 25 दिनों में इतने लोग आए चपेट में



Advertisement