भाजपा विधायक ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी,बोले - जनसंख्या नियंत्रण पर बनें सख्त कानून

सुल्तानपुर. जिले के लम्भुआ से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक देवमणि द्विवेदी एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं। उनके चर्चा में रहने का कारण इस बार किसी तरह के भ्र्ष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करना नहीं है, बल्कि उन्होंने देश में बढ़ती जनसंख्या के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का ध्यान दिलाते हुए जनसंख्या नियंत्रण के लिए सख्त कानून बनाने की पुरजोर मांग की है। भाजपा विधायकने जनसंख्या नियंत्रण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पत्र लिखा है। विधायक ने पत्र में जनसंख्या नियंत्रण के मुद्दे को उठाते हुए लिखा है कि 'कड़ा विधान-मांग रहा है हिंदुस्तान।' इससे पहले विधायक ने जिले की डीएम रहीं आईएएस सी. इंदुमति के भ्रष्ट्राचार के खिलाफ मुख्यमंत्री को भी पत्र भेजकर मोर्चा खोला था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे

पत्र में लिखा "भारत माता का पैगाम, दो या दो से कम संतान"

जिले के लम्भुआ सीट से भाजपा विधायक देवमणि द्विवेदी ने कविता के माध्यम से अपनी बात कही। कविता की जिन पंक्तियों का विधायक ने जिक्र किया वो लोगो के बीच चर्चा का विषय बना है। विधायक ने लिखा कि ''भारत माता का पैगाम, दो या दो से कम संतान, सब धर्मों का मान समान, बेटी-बेटा एक समान, ज्यादा बहस न ज्यादा ज्ञान, सीधा-सीधा ले संज्ञान, कोई खीच न कोई तान, सबको सन्मति दे भगवान, जनसंख्या पर कड़ा विधान, मांग रहा है हिंदुस्तान।''

जनसंख्या नियंत्रण एक प्रकार की है देशभक्ति

भाजपा विधायक देवमणि द्विवेदी ने कहा कि कुछ समय पूर्व राजनीतिक बैठकों, टीवी की चर्चाओं और चाय की दुकानों पर बातचीत का मुख्य मुद्दा बढ़ती हुई आबादी होती थी। लेकिन पिछले साल के स्वतंत्रता दिवस के भाषण में 'जनसंख्या विस्फोट' शब्द का इस्तेमाल कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बहस को नए आयाम पर पहुंचा दिया है। उन्होंने जनसंख्या नियंत्रण को देशभक्ति के बराबर बताया। उन्होंने कहाकि जो अपने परिवारों को छोटा रखता है, वह सम्मान का हकदार है और वह जो कर रहा है वह देशभक्ति का कार्य है।

ये भी पढ़ें: गरीब कल्याण रोजगार योजना में यूपी नंबर वन पर, दो अक्टूबर को बांटे जाएंगे पुरस्कार

ये भी पढ़ें: दिल के मरीजों के लिए खतरनाक है कोरोना, इस वायरस से उबरने वाले 80 फीसदी लोगों में दिल से जुड़ी दिक्कत

ये भी पढ़ें: आखिर क्या है मथुरा में कृष्ण विराजमान का विवाद, जानिये अब तक का कानूनी इतिहास



Advertisement