इलाज में लापरवाही से आधा दर्जन कोरोना मरीजों की मौत, अस्पताल प्रबंधन पर केस दर्ज

मेरठ. मेरठ के एक प्राइवेट अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज में लापरवाही के चलते हुई मौत पर स्वास्थ्य विभाग सख्त हो गया है। इस पर अस्पताल के प्रबंधक डाॅ. अतुल कृष्ण और मैनेजर पर मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमा डिप्टी सीएमओ जीके मिश्रा की तहरीर पर दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें- अब घर बैठे मोबाइल पर पाए कोरोना रिपोर्ट

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग को जानकारी मिली थी कि प्राइवेट अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज में लापरवाही हो रही है, जिसके चलते मरीजों की मौत हो रही है। इस पर स्वास्थ्य विभाग ने जांच बैठाई थी। जांच में खुलासा हुआ कि लोकप्रिय अस्पताल में 6 मरीजों की मौत इलाज में लापरवाही के चलते हुई है। मरीजों की हालत अधिक बिगड़ने पर अस्पताल ने उनको मेडिकल रेफर कर दिया था। जहां पर मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई।

जांच में पता चला कि जिन मरीजों को लोकप्रिय अस्पताल से मेडिकल रेफर किया गया था उनके इलाज मे लापरवाही बरती गई। जिसके कारण उनकी हालत खराब हुई और अस्पताल ने अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए ही मरीजों को मेडिकल में भेज दिया। स्वास्थ्य विभाग ने इसको घोर लापरवाही मानते हुए लोकप्रिय अस्पताल के प्रबंधक अतुल कृष्ण और मैनेजर पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमा डिप्टी सीएमओ जीके मिश्रा की तहरीर पर धारा 304 ए और महामारी एक्ट में दर्ज किया गया है।

मुकदमा दर्ज होने के बाद अस्पताल का लाइसेंस भी कैसिंल हो सकता है। मरीजों के इलाज में लापरवाही को लेकर पहले भी लोकप्रिय अस्पताल विवादों में रहा है। इस बारे में सीएमओ डा0 राजकुमार ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया गया है। जांच में मृतक मरीज के परिजनों के भी बयान लिए जाएंगे। आगे जांच में अगर और अनियमितता पाई गई तो अस्पताल का लाइसेंस निरस्त के लिए कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- UP के इस जिले में तेजी से ठीक हो रहे कोरोना मरीज, अब तक 9792 हुए डिस्चार्ज



Advertisement