कांग्रेस संगठन में बड़ा फेरबदल, प्रियंका गांधी का और बढ़ा कद, ये होगी उनकी नई टीम

लखनऊ. प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) के प्रभारी होने के चलते कांग्रेस के केंद्रीय संगठन में उत्तर प्रदेश का कद तेजी से बढ़ा है। केंद्रीय नेतृत्व की ओर से जारी संगठन और सीडब्ल्यूसी (कांग्रेस वर्किंग कमिटी) सदस्यों की सूची में इसकी साफ झलक दिखी। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी का संगठनात्मक चुनाव कराने के लिए पांच सदस्यीय समिति की घोषणा की गई है। समिति का अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री को बनाया गया है। बाकी चार सदस्यों में यूपी के पूर्व सांसद राजेश मिश्रा को भी स्थान दिया गया है। वहीं अब तक पीएल पुनिया के पास छत्तीसगढ़ और आरपीएन सिंह के पास झारखंड का प्रभार था। इन दोनों का प्रभार कायम रखते हुए नई राज्य प्रभारियों की सूची में यूपी के तीन और नेताओं का शामिल किया गया है। जितिन प्रसाद को पश्चिम बंगाल और अंडमान का प्रभारी बनाया गया है। वहीं विवेक बंसल को हरियाणा और राजीव शुक्ला को हिमाचल की जिम्मेदारी दी गई है।

यूपी का खास ध्यान

संगठन के फेरबदल में कांग्रेस ने यूपी को ध्यान में रखते हुए ब्राह्मण वोटों को भी ध्यान में रखा है। प्रमोद तिवारी को पहली बार सीडब्ल्यूडी में रखा गया है। वह भी स्थायी आमंत्रित सदस्य के रूप में। प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व में भले ही जितिन को लेकर मतभेद हों, लेकिन केंद्रीय नेतृत्व ने अहम जिम्मेदारियां देकर उनका कद बढ़ा दिया है। साथ ही राजेश मिश्रा को भी केंद्रीय नेतृत्व ने तवज्जो देकर यह दिखाने का काम किया है कि कांग्रेस में भी ब्राह्मणों का स्थान बरकरार है।

प्रियंका ही संभालेंगी यूपी

प्रियंका गांधी वाड्रा के पास ही उत्तर प्रदेश की कमान रहेगी। वहीं राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले रणदीप सुरजेवाला को कांग्रेस अध्यक्ष को सलाह देने वाली 6 सदस्यों की उच्च स्तरीय समिति में शामिल किया गया है। आपको बता दें कि बीते दिनों 2022 यूपी चुनाव के लिए बनाई गई 7 समितियों में जितिन प्रसाद और आरपीएन सिंह को किसी में भी स्थान नहीं मिला था। जिसके बाद तरह-तरह के सवाल उठने लगे थे। जिसके बाद अब आरपीएन सिंह और राजीव शुक्ला को सीडब्ल्यूसी का विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया गया है।

इनको भी जिम्मेदारी

कांग्रेस ने बदलाव करते हुए नौ महासचिव और 17 प्रभारी रखे हैं। इनमें मुकुल वासनिक, हरीश रावत, ओमन चांडी, प्रियंका गांधी, तारिक अनवर, रणदीप सुरजेवाला, जीतेंद्र सिंह, अजय माकन व केसी वेणुगोपाल शामिल हैं। इनमें चौंकाने वाले नाम तारिक अनवर व सुरजेवाला रहे, जिन्हें केरल-लक्षद्वीप और कर्नाटक जैसे अहम राज्य भी दिए गए।



Advertisement