कंगना का ऑफिस तोड़ बुरी फंसी BMC, लोगों ने कहा ‘गड्ढे तो भर नहीं पाती, घर तोड़ दिया’

बदले की आग में जलती महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के दफ्तर पर BMC से बुलडोजर चलवा कर अपनी तो किरकिरी कराई ही, BMC पर भी लोगों ने सवाल उठा दिए. जिस वक़्त BMC कंगना का दफ्तर तोड़ रही थी, उस वक़्त बड़ी संख्या में लोग वहां जमा हो गए. कई महिलाएं थी जो BMC के खिलाफ नारे लगा रही थीं. कई लोगों ने कंगना के दफ्तर के बाहर BMC के खिलाफ प्रदर्शन भी किया.

लोगों का कहना था कि हर बरसात में मुंबई डूब जाती है, BMC से सड़कों के गड्ढे तो भरे नहीं जाते और बदला लेने के लिए किसी का घर तोड़ रही है. प्रदर्शनकारियों में शामिल एक महिला ने कहा कि मुंबई किसी के बाप की नहीं है. यहां पर हर राज्य के लोग रहते हैं. हर तरह के लोग रहते हैं. एक अन्य शख्स ने कहा कि एक सरकार उनकी भी होती है जो उसका समर्थन करते हैं और उनकी भी जो उसका समर्थन नहीं करते. सरकारें जनता से बदला नहीं लेती. कई लोगों ने कहा कि BMC से मुंबई के गड्ढे तो भरे नहीं जाते और लोगों के घर तोड़ रही है.

BMC पर सवाल तो खुद महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार में सहयोगी एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार ने ही उठा दिए. शरद पवार ने साफ़ साफ़ कहा कि BMC ने सही नहीं किया. उन्होंने कहा कि मुंबई में अवैध निर्माण कोई नया नहीं है. हालांकि, बीएमसी की कार्रवाई ने लोगों को शक पैदा करने का मौका दे दिया है. उन्होंने कहा मुंबई में कई ऐसी अवैध इमारतें हैं. लेकिन आज की BMC की करवाई गैरजरूरी थी.



Advertisement