Ghaziabad में चाइल्ड ट्रैफिकिंग का भंडाफोड़, छह बच्चे किए गए रेस्क्यू

गाजियाबाद। जनपद में रेलवे पुलिस ने एनजीओ की मदद से ऐसे बच्चों को रेस्क्यू किया है, जिन्हें चाइल्ड ट्रैफिकिंग करके एनसीआर में लाया गया था। आसाम अवध एक्सप्रेस ट्रेन से इन बच्चों को रेस्क्यू किया गया। इन्हें चाइल्ड लेबर के लिए ले जाया जा रहा था। इन बच्चों की उम्र 9 साल से 14 साल के बीच है। मामले में पांच आरोपियों को भी पकड़ा गया है। जिन से पुलिस पूछताछ कर रही है। एनजीओ ने दिल्ली पुलिस को सूचना दी थी, जिसके बाद गाजियाबाद रेलवे पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए बच्चों को अलग-अलग डिब्बों में से रेस्क्यू किया।

इस मामले में बचपन बचाओ एनजीओ के स्टेट कोऑर्डिनेटर पुनीत शर्मा ने बताया कि यह संस्था बाल मजदूरी के खिलाफ कार्य कर रही है। उन्होंने बताया कि इन्हें सूचना प्राप्त हुई थी। कि अवध आसाम एक्सप्रेस के जरिए कुछ बच्चों को चाइल्ड लेबर के लिए ले जाया जा रहा है। सूचना के आधार पर जब जीआरपी के साथ जांच की गई। तो ट्रेन के अंदर 9 वर्ष से 14 वर्ष तक की उम्र के 6 बच्चे मिले। जो कि बिहार और पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं। जानकारी मिली कि उन्हें चाइल्ड लेबर के लिए ले जाए जा रहा है ।फिलहाल सभी बच्चों को जीआरपी ने हिरासत में लेकर इसकी गहनता से जांच शुरू कर दी है।

उधर जीआरपी थाना अध्यक्ष अशोक सिसोदिया ने बताया कि कुछ बच्चों को अवध आसाम एक्सप्रेस के जरिए चाइल्ड लेबर के लिए ले जाया जा रहा था ।एक एनजीओ बचपन बचाओ के माध्यम से 6 बच्चों को रेस्क्यू किया गया है। इन सभी बच्चों को सीडब्ल्यूसी बच्चों की कोर्ट में पेश किया जाएगा। फिलहाल अभी यह जानकारी भी जताई जा रही है कि आखिर इन बच्चों को किस लिए ले जाया जा रहा था।



Advertisement