JEE-NEET Exam: परीक्षा को लेकर जरूरी बात, केंद्र पर मास्क पहन कर जाना अनिवार्य, इस फॉर्मूले पर होगी नीट की परीक्षा

लखनऊ. आज यानी एक सितंबर से जेईई मेन (JEE) की परीक्षा शुरू हो चुकी है। 13 सितंबर से नीट (NEET) की परीक्षा शुरू हो रही है। परीक्षा में करीब दस लाख विद्यार्थी हिस्सा लेंगे। कोरोना काल में बीमारी के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए परीक्षा केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग व सावधानी पूर्वक परीक्षा देने के सभी इंतजाम किए गए हैं। बता दें कि यूपी में ये परीक्षा 66 केंद्रों पर आयोजित कराई जाएगी। एक सितंबर से छह सितंबर तक जेईई की परीक्षा 12 चरणों में आयोजित कराई जाएगी। जबकि आगामी 13 सितंबर को होने वाली नीट की परीक्षा में 166582 परीक्षार्थी हिस्सा लेंगे। जिनके लिए यूपी में 320 सेंटर बनाये गए हैं।

राजधानी लखनऊ में नौ सेंटर

जेईई की परीक्षा से पहले लखनऊ डीएम अभिषेक प्रकाश ने जेईई और नीट परीक्षा के लिए समीक्षा की। अभिषेक प्रकाश ने बताया कि जेईई के लिए राजधानी लखनऊ में नौ सेंटर बनाये गए हैं। जबकि 13 सितंबर को आयोजित होने वाली नीट परीक्षा के लिए 82 केंद्र बनाये गए हैं। उन्होंने बताया कि सभी केन्द्रों पर दो आब्जर्वर नियुक्त किये गए हैं। जेईई की परीक्षा दो पाली में सुबह 9 से 12 और दोपहर 3 से 6 बजे तक आयोजित होगी।

हर केंद्र पर 200 मास्क हो उपलब्ध

परीक्षार्थियों के भविष्य व संक्रमण का ध्यान रखते हुए सभी परीक्षा केंद्रों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। डीएम ने सभी केंद्र व्यवस्थापक को निर्देश दिए हैं कि केन्द्रों में सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन कराए जाने का ध्यान रखा जाए। सभी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों को चेक कर लिया जाए कि सभी कार्यशील है या नहीं। इसके साथ ही परीक्षा के पहले पूरे परिसर, परीक्षा कक्ष एवं फर्नीचर को अच्छी तरह से सैनिटाइज करने के भी निर्देश दिए गए हैं। साथ ही निर्देश दिया कि प्रत्येक केंद्र पर परीक्षार्थी के मोबाइल जमा कराने के लिए लिफाफे रखे जाए ताकि परीक्षार्थी अपना मोबाइल जमा कर सके। प्रत्येक केंद्र पर 200-200 मास्क रखाने की व्यवस्था भी किए जाने के निर्देश हैं। ताकि अगर कोई छात्र बिना मास्क के आए तो उसे यहां े मास्क उपलब्ध करा दिया जाए। बगैर मास्क के केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।

ऑड-ईवन के फॉर्मूले पर होगी परीक्षा

जेईई-नीट परीक्षा आयोजित कराने की गाइडसाइन के अनुसार, परीक्षा ऑड-ईवन के फॉर्मूले पर आयोजित होगी। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए हर परीक्षा केंद्र पर केवल 12 छात्रों को बिठाया जाएगा। केंद्रीय मंत्री के मुताबिक एनटीए एक बेहतर रणनीति के तहत परीक्षा करवा रहा है। परीक्षा में छात्रों को वही सेंटर दिए गए हैं जो उनके लिए सुलभ हों। कोशिश यह भी है कि छात्रों को आने जाने में भी परेशानी का सामना न करना पड़े।

ये भी पढ़ेंं: पियक्कड़ों के लिए गुड न्यूज, यूपी में जल्द खुल सकते हैं बार



Advertisement