बिहार विधानसभा चुनाव से पहले RJD को लगा तगड़ा झटका, वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने पार्टी से दिया इस्तीफ़ा

अभी बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन उससे पहले ही सत्ता में आने का ख्वाब देख रही RJD को झटके पर झटके लग रहे हैं. आज फिर RJD को तगड़ा झटका लगा. पार्टी के वरिष्ठ नेता और लालू प्रसाद यादव के बेहद करीबी रहे रघुवंश प्रसाद सिंह ने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया. कुछ दिनों पहले ही उन्होंने पार्टी के सभी पदों से अपना इस्तीफ़ा दे दिया था.

रघुवंश प्रसाद सिंह इन दिनों एम्स में अपना इलाज करा रहे हैं. बिस्तर पर लेटे लेटे ही उन्होंने एक कागज पर महज डेढ़ लाइन में अपना इस्तीफा लिखा और रांची में सजा काट रहे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को भेज दिया है. उन्होंने अपने इस्तीफे में हाथ से लिखा,

‘सेवा में, राष्ट्रीय अध्यक्ष महोदय रिम्स अस्पताल रांची,
जननायक कर्पूरी ठाकुर के निधन के निधन के बाद 32 वर्षों तक आपके पीछे खड़ा रहा. लेकिन अब नहीं. पार्टी नेता, कार्यकर्ता और आमजन ने बड़ा स्नेह दिया, मुझे क्षमा करें. – रुघुवंश प्रसाद

रघुवंश प्रसाद सिंह का ये हाथ से लिखा इस्तीफ़ा अब सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है. रघुवंश प्रसाद सिंह पूर्व एलजेपी सांसद रामा सिंह के पार्टी में शामिल होने से काफी नाराज चल रहे थे. उनकी नाराजगी तब और बढ़ गई जब लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा कि “पार्टी समुद्र होता है, उससे एक लोटा पानी निकलने से कुछ नहीं होता है.” रघुवंश प्रसाद सिंह राजद के संस्थापक सदस्यों में से एक थे.

रघुवंश प्रसाद सिंह के RJD छोड़ने पर बिहार BJP के नेता निखिल आनंद ने कहा है कि “रघुवंश बाबू बिहार के सम्मानित नेता है. सभी पार्टियों में विचारधारा से परे जा कर उनका सम्मान होता है. उन्होंने RJD को अपने खून-पसीने से सींचा था. RJD आज जिस मुकाम पर हैं उसे वहां तक पहुँचाने में उनका बहुत बड़ा योगदान हैं. लेकिन उस पार्टी में उनका अपमान किया गया. इसलिए उन्हें इस्तीफ़ा देना पड़ा. उनका हम सभी सम्मान करते हैं. RJD के नेताओं ने उन्हें दूध में पड़ी मक्खी की तरफ निकाल फेंका.”

सुनिए निखिल आनंद का बयान :



Advertisement