UP Vidhansabha upchuna : जिताऊ कैंडिडेट की तलाश में सभी दल, कुछ पर कांग्रेस-बसपा ने घोषित किये कैंडिडेट, bjp-sp में मंथन

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में होने जा रहे 8 सीटों के उपचुनाव योगी सरकार के 3 सालों के कार्यों पर मुहर लगाने वाला बन सकता है। इसमें भाजपा को अपनी पुरानी 6 सीटे बचानी है तो अब तक बीजेपी का झंडा ना फहराने वाले 2 विधानसभा सीटों पर भी निगाह रहेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं क्षेत्रों का दौरा करके भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने में लगे हैं। सफलता कितनी मिलती है। यह समय बताएगा। फिलहाल कांग्रेस व बसपा को छोड़कर किसी भी पार्टी ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है। आज चुनाव आयोग प्रदेश में होने वाले उप चुनाव की तारीख की भी घोषणा करने जा रहा है।

भाजपा की कब्जा वाली सीटों में फिरोजाबाद जनपद की टूंडला, उन्नाव की बांगरमऊ, बुलंदशहर की सदर, देवरिया की सदर, कानपुर की घाटमपुर और अमरोहा की नौगावां सादात विधानसभा शामिल हैं। इसके अतिरिक्त समाजवादी पार्टी की कब्जा वाली सीटों में रामपुर की स्वार और जौनपुर की मल्हनी विधानसभा सीट शामिल है। इसमें रामपुर की स्वार और जौनपुर की मल्हनी सीट पर भाजपा अभी तक अपना परचम नहीं लहरा पाई है। ऐसे में भाजपा के लिए उपरोक्त दोनों सीटें महत्वपूर्ण हो जाती हैं।

क्यों हो रहे उपचुनाव

समाजवादी पार्टी के कब्जे वाली सीटों में रामपुर कि स्वार सेठ दोनों पार्टियों के लिए मायने रखती हैं। यहां से सपा सांसद आजम खान के पुत्र अब्दुल्ला आजम की विधायकी जन्म प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा सामने आने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विधानसभा सदस्यता समाप्त करने के आदेश दिए थे। इसी प्रकार सपा की दूसरी सीट जौनपुर जनपद की मल्हनी समाजवादी पार्टी के विधायक पारसनाथ यादव के निधन के बाद खाली हुई थी। यह सीट 2012 में अस्तित्व में आई थी।

भाजपा के कब्जे वाली सीटों पर हो रहे उपचुनाव में उन्नाव की बांगरमऊ विधानसभा सीट चर्चा में है। जहां योगी आदित्यनाथ भी अपनी रैली कर चुके हैं। भाजपा के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर कोक सुप्रीम कोर्ट ने गैंग रेप मामले में उम्र कैद की सजा सुनाई है। जिसके बाद यह सीट खाली हुई है। यहां पर कांग्रेस ने गोपीनाथ दीक्षित की पुत्री आरती बाजपेई को और बसपा ने महेश पाल टिकट दिया है। जबकि बीजेपी और सपा में प्रत्याशियों के नामों पर मंथन अभी भी चल रहा है। इसके अतिरिक्त अमरोहा की नौगांव सादात से योगी शासन में मंत्री चेतन चौहान, कानपुर के घाटमपुर की सीट से कमल रानी वरुण, बुलंदशहर सदर की सीट वीरेंद्र सिंह सिरोही की मृत्यु के कारण खाली हुई है। जबकि डॉ एस पी सिंह बघेल के सांसद बनने के कारण फिरोजाबाद की टूंडला सीट खाली हुई है।



Advertisement