World Heart Day अटैक आने पर महज 50 पैसे की यह गाेली बचा लेगी आपकी जान

एक्सपर्ट के अनुसार हार्ट अटैक आने पर डिस्प्रीन या सॉरबीट्रेट नाम की गाेली काे जल्द से जल्द जीभ के नीचे रख लिया जाए तो 80 प्रतिशत तक जान जाने का खतरा कम हाे जाता है।

सहारनपुर ( heart attack news ) विश्व ह्रदय दिवस ( World Heart Day ) पर आज हम आपको एक फॉर्मूला बता रहे हैं जो हार्ट अटैक आने पर आपकी जान बचा लेगा।
एक सर्वे रिपाेर्ट के मुताबिक देश मे तेजी से ह्रदय रोगियों की संख्या बढ़ रही है। अगर इसी गति से ह्रदय रोगी बढ़ते गए तो अनुमान है कि 2025 तक प्रत्येक तीसरे व्यक्ति की माैत का कारण हार्ट अटैक हाेगा।

यह भी पढ़ें: गाजियाबाद में सामने आया मानवता काे शर्मसार करने वाला वीडियो

ऐसे में जरूरी है कि, हम सभी को इस घातक बीमारी से सचेत हाे जाना चाहिए। हार्ट अटैक आने पर प्रथमिक उपचार बेहद महत्वपूर्ण होता है लेकिन एक्सपर्ट के अनुसार जब अटैक ( heart attack ) पड़ता है ताे आदमी को साेचने के लिए बेहद कम समय मिलता है। अगर अटैक आने पर जल्द से जल्द उपचार ना मिले ताे जान जाने का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें: प्रेमी की पिटाई से आहत प्रेमिका ने तलाब में कूदकर दे दी जान

भारत में इस बीमारी का इलाज भले ही अभी भी महंगा हाे लेकिन आपको यह जानकर हैरानी हाेगी कि हार्ट अटैक ( heart attack ) आने पर फर्स्ट एड यानी प्राथमिक उपचार महज 50 पैसे की एक गाेली हाेती है। यानी अटैक आने पर महज 50 पैसे की गोली आपकी जान बचा सकती है। इस गोली को आपको हमेशा अपने पास रखना चाहिए। ऐसा करके आप अपनी जान का रिस्क तो कम ही कर लेंगे बल्कि आपके आसपास भी किसी को अटैक आता है तो यह गोली तुरंत उसकी जीभ के नीचे रखकर आप दूसरों की जान भी बचा सकते हैं।

किसी भी मेडिकल स्टोर से आपको आसानी से मिल जाएंगी ये गोली
आपने ''डिस्प्रीन'' टेबलेट का नाम ताे सुना ही हाेगा यही वह गाेली है जाे अटैक आने पर आपकी जान बचा लेगी। लगभग सभी मेडिकल स्टाेर पर यह गाेली यानी टेबलेट आसानी से आपको मिल जाएगी। हार्ट स्पेशलिस्ट डॉक्टर संजीव मिलगनी के मुताबिक अटैक आने पर तुंरत आधी डिस्प्रीन काे जीभ के नीचे रख लेना चाहिए। डिस्प्रीन आसानी से गांव देहात में भी मिल जाती है। दूसरी गोली यानी टेबलेट का नाम सॉरबीट्रेट है। हार्ट अटैक आने पर या तो आधी डिस्प्रीन या फिर पूरी सोर्बिट्रेट की गोली को जीभ के नीचे रखने से तुरंत आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें: DRDO के साइंटिस्ट का अपहरण कर हनीट्रैप में फँसाने की कोशिश, युवती समेत तीन गिरफ्तार

अटैक अगर तेज है तो आधी डिस्प्रीन और पूरी सॉरबीट्रेट तुरंत जीभ के नीचे रखने से आराम मिलता है। रोगी को अस्पताल तक जाने का समय मिल जाता है। सॉर्बिट्रेट भी आपको मेडिकल स्टोर से महज 70 पैसे में ही मिल जाएगी। अगर अटैक आता है तो तुरंत जीभ के नीचे आधी डिस्प्रिन या फिर पूरी सॉर्बिट्रेट या दोनों गोली रखने से मौत का खतरा 80% तक कम हो जाता है।



Advertisement