माटी की कला को मिलेगी बुलंदी, अमेठी में वितरित किए जाएंगे 100 सोलर चाक, सफलता पर पूरे प्रदेश में लागू होगी योजना

अमेठी. उत्तर प्रदेश में खादी और ग्रामोद्योग को प्रोत्साहन देने के लिए मोदी सरकार ने नई योजना तैयार की है। कुम्हारों की माटी कला को बुलंदी देने के लिए सरकार ने उत्तर प्रदेश के अमेठी से 100 सोलर चाक देने की शुरुआत की है। खादी और ग्रामोद्योग आयोग के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग की पहल पर सूबे में आत्मनिर्भर योजना के तहत 19 जिलों को शामिल किया गया है। योजना के सफल होने पर इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा। इस संबंध में आज यानी सोमवार से नौ अक्टूबर तक बाल संग्रहालय मैदान में प्रदर्शनी लगेगी। प्रदर्शनी में कुम्हारी कला, शहद उत्पादन, लेदर क्राफ्ट, लकड़ी की कला के कारीगरों के अपनी कला को दिखाने का मौका मिलेगा। इससे कुम्हारों के लिए रोजगार के भी अवसर खुलेंगे।

आज से लगेगी खादी प्रदर्शनी, कामगारों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की खादी एक वस्त्र नहीं विचारधारा है जो हर किसी को रोजगार से जोड़ता है। इस विचार धारा से युवाओं को जोड़ने के लिए खादी को युवाओं के अनुरूप तैयार किया जा रहा है। पारंपरिक व आधुनिक खादी के वस्त्रों के साथ ग्रामोद्योग के उत्पादों की प्रदर्शनी 26 अक्टूबर से नौ नवंबर तक बाल संग्रहालय मैदान में लग रही है। आयोग के सहायक निदेशक एके मिश्रा ने बताया कि प्रदर्शनी में छूट के साथ ही सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है। बच्चों और बुजुर्गों के प्रवेश पर प्रतिबंध होगा। इसके अलावा जो लोग आएंगे उन्हें मास्क लगाकर प्रवेश करना होगा। प्रदेश ही नहीं देश के कई राज्यों से खादी व ग्रोमोद्याेग की संस्थाएं आ रही हैं। सेालर चाक समेत ग्रामोद्योग की पूरी जानकारी भ्री दी जाएगी। लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए 200-200 कामगारों को तकनीकि प्रशिक्षण दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: काम पर वापस बुलाने के लिए मजदूरों को भेजा जा रहा एसी कोच का टिकट, अच्छे खाने-पीने का भी मिल रहा ऑफर

ये भी पढ़ें: बिना डॉक्टूमेंट्स के भी आधार मे पता होगा अपडेट, जानिये क्या है प्रोसेस



Advertisement