सांसद मेनका गांधी की सजगता से सैकड़ों बेजुवानों की बची जान, 15 लोग गिरफ्तार

नोएडा. पूर्व केंद्रीय मंत्री और सुल्तानपुर से भाजपा की सांसद मेनका गांधी की सजगता से 677 भेड़-बकरियों की जान बच गई। जिन्हें छह ट्रकों में ठूस-ठूसकर भरते हुए दिल्ली ले जाया जा रहा था। मेनका गांधी की सूचना पर पुलिस ने एनजीओ पीएफए की शिकायत पर तीन आरोपियों को दनकौर और 12 के खिलाफ जेवर में पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों के कब्जे से मुक्त कराई गई भेड़-बकरियों को दिल्ली संजय गांधी एनिमल केयर सेंटर में भेज दिया गया है। पुलिस मामले की पूरी गहनता से जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें- यूपी में उपचुनाव से पहले हो रही थी बड़ी 'साजिश', पुलिस ने किया नाकाम

एडिशनल डीसीपी ग्रेटर नोएडा जोन-3 राजेश कुमार सिंह ने बताया कि मेनका गांधी शुक्रवार देर रात करीब डेढ़ बजे सुल्तानपुर से सड़क मार्ग से यमुना एक्सप्रेस-वे होते हुए दिल्ली जा रही थीं। उन्हें एक ट्रक में भेड़-बकरियां भरी हुई दिखाई दीं, जो मानक से ज्यादा थीं। गांधी ने इस मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस-वे की एटीएस सोसाइटी के सामने ट्रक को रोक कब्जे में ले लिया। एक ट्रक में 50 से ज्यादा भेड़-बकरियां नहीं भरी जा सकती, लेकिन उक्त छह ट्रकों में 677 भेड़-बकरियां भरी थीं। मेनका गांधी भेड़ बकरियों से भरे हुए ट्रक के साथ खुद थाना दनकौर पहुंचीं तथा पशु पक्षियों के हित के लिए काम करने वाली अपनी संस्था पीएफए के पदाधिकारी गौरव गुप्ता को थाना दनकौर बुलवाया। गौरव गुप्ता की तहरीर पर थाना दनकौर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ट्रक चालक अरब सिंह, राजू तथा दिलशाद के खिलाफ पशु क्रूरता कानून के तहत मुकदमा दर्ज किया है तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।

इस दौरान मेनका गांधी थाना दनकौर में करीब 40 मिनट तक रुकी रहीं और अपने सामने सारी कार्रवाही कारवाई और वह रात ढाई बजे के करीब थाने से दिल्ली के लिए निकलीं। इसके बाद जनपद पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस-वे पर ट्रकों में भरकर भेड़-बकरी ले जाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की। इसी क्रम में थाना जेवर पुलिस ने पांच ट्रकों में भरकर ले जाई जा रही 677 भेड़-बकरियों के साथ कुल 15 लोगों को गिरफ्तार किया।

यह भी पढ़ें- सहारनपुर रेप पीड़िता के मामले में गरमाई राजनीति, स्वजनों से मिले कांग्रेसी विधायक



Advertisement