सुनवाई के लिए लखनऊ रवाना हुआ हाथरस कांड की पीड़िता का परिवार, ऐसा है गाड़ियों का काफिला और सुरक्षा-व्यवस्था

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड की आज बेहद अहम सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में होनी है। जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस राजन राय की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी। गरिमापूर्ण तरीके से अंतिम संस्कार का अधिकार टाइटल के तहत मामला कोर्ट में सूचीबद्ध है। दोपहर बाद लगभग ढाई बजे केस की सुनवाई शुरू होगी। आपको बता दें कि 1 अक्टूबर को हाईकोर्ट ने मामले का स्वतः संज्ञान लेते हुए एसीएस (होम) अवनीश कुमार अवस्थी, डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर), हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार और तत्कालीन एसपी विक्रांत वीर को भी कोर्ट ने तलब किया है। इसके अलावा मृतका के माता-पिता, भाई-भाभी को भी आज कोर्ट में हाजिर होना है। वहीं कोर्ट ने वरिष्ठ वकील जेएन माथुर को मामले में एमिकस क्यूरी यानी न्‍याय मित्र बनाया है। वहीं सरकार की ओर से वीके शाही पक्ष रखेंगे। वहीं हाथरस के बूलगढ़ी कांड की जांच के लिए रविवार दोपहर को सीबीआई की टीम हाथरस पहुंच गई। जहां उसने केस को लेकर काम शुरू करप दिया है।

सुबह निकला काफिला

आज तड़के सुबह ही हाथरस की एसडीएम अंजलि गंगवार और सीओ शैलेंद्र वाजपेयी के नेतृत्व में 6 गाड़ियों के काफिले के साथ हाथरस से मृतका के माता-पिता दोनों भाई और भाभी लखनऊ के लिए रवाना हो गए। डीएम और एसपी भी काफिले के साथ ही लखनऊ के लिए निकले हैं। दोपहर दो बजे के करीब परिवार को हाईकोर्ट में पेश होना है। मृतका के परिवार को एसडीएम अंजलि गंगवार और सीओ शैलेंद्र वाजपेयी की टीम एस्कॉर्ट कर रही है।

रात में जाने से किया था इनकार

वहीं इससे पहले पीड़ित परिवार ने रात में लखनऊ जाने से इंकार कर दिया था। पीड़िता के भाई के मुताबिक हम रात में लखनऊ का सफर नहीं करना चाहते हैं। वहीं परिवार के इनकार के बाद पुलिस-प्रशासन ने सुबह निकलने का प्लान बनाया। आपको बता दें कि हाईकोर्ट ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लिया है। यही नहीं, इस पूरे मामले को लेकर परिवार ने अपनी जान का खतरा बताया था, इस वजह से उन्हें पुलिस की सुरक्षा दी गई है।



Advertisement