सीएम योगी की सख्ती का बड़ा असर, माध्यमिक शिक्षा विभाग में सामने आए हजारों खाली पद, भर्ती जल्द

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सख्ती के बाद सरकारी महकमों में रिक्त पदों का ब्योरा तैयार हो रहा है। माध्यमिक शिक्षा विभाग में 52,110 पद रिक्त हैं। इनमें से समूह क और ख यानी प्रधानाचार्य व प्रधानाध्यापक आदि के करीब साढ़े तीन हजार पद हैं, जबकि समूह ग में सबसे अधिक 48398 पद खाली हैं। शिक्षा निदेशालय ने शासन को रिक्त पदों का ब्योरा भेज दिया है, अब जल्द ही भर्ती का ऐलान होगा।

खाली निकले हजारों पद

माध्यमिक शिक्षा महकमे में लंबे समय से पद खाली हैं। शासन ने निदेशालय से पदों का ब्योरा मांगा था। रिक्त पदों पर भर्ती कराने का जिम्मा अलग-अलग संस्थाओं का है। मसलन, राजकीय कालेजों में प्रधानाचार्य, प्रवक्ता व सहायक अध्यापक का चयन उप्र लोकसेवा आयोग करता है। वहीं से बीएसए भी चयनित होते हैं। जबकि अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक कालेजों व एडेड संस्कृत माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाचार्य, प्रवक्ता व सहायक अध्यापकों के लिए चयन बोर्ड योग्य अभ्यर्थियों का चयन करता है। इसके अलावा लिपिक, कनिष्ठ सहायक, आशुलिपिक पदों पर चयन अधीनस्थ सेवा चयन आयोग लखनऊ करता आ रहा है। समूह क में 2110, समूह ख में 1602 और समूह ग में 48398 पदों पर जल्द भर्ती होगी। वहीं माध्यमिक शिक्षा विभाग समूह क के पदों पर पदोन्नति से ही चयन करता आ रहा है। लंबे समय से विभागीय पदोन्नति होने का इंतजार है।

ये पद खाली

समूह क में एडेड माध्यमिक कॉलेजों में प्रधानाचार्य- 2110

समूह ख में राजकीय कॉलेजों में प्रधानाचार्य- 369

बेसिक शिक्षा अधिकारी व सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारी- 22

वरिष्ठ प्रवक्ता- 101

एडेड कालेजों में प्राचार्य- 758

संस्कृत स्कूल में प्राचार्य- 352

समूह ग में राजकीय कालेजों में प्रवक्ता महिला- 626

राजकीय कालेजों में प्रवक्ता पुरुष- 1293

राजकीय कालेजों में सहायक अध्यापक महिला- 4257

राजकीय कालेजों में सहायक अध्यापक पुरुष- 4681

एडेड कालेजों में प्रवक्ता- 2696

एडेड कालेजों में सहायक अध्यापक- 31818

एडेड कालेजों में लिपिक- 1485

एडेड संस्कृत विद्यालयों में सहायक अध्यापक - 1119

शिक्षा निदेशालय में कनिष्ठ सहायक- 107

निदेशालय में आशुलिपिक- 23

माध्यमिक शिक्षा परिषद में कनिष्ठ सहायक- 93

यह भी पढ़ें: 10 लाख किसानों से योगी सरकार करेगी बात, धान खरीदी हुई और खाते में पैसा पहुंचा कि नहीं, ऐसे ही पूछेगी एक एक बात



Advertisement