अब घर में ही युवाओं को स्टाम्प वेन्डर का रोजगार देगी योगी सरकार, पायलट प्रोजेक्ट के तहत यूपी के इस जिले से शुरुआत

बाराबंकी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने युवाओं को रोजगार देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए किसी भी स्थान पर स्टाम्प वेन्डर का काम करने की छूट प्रदान कर दी है। यह जानकारी प्रदेश के स्टाम्प एवं पंजीयन शुल्क विभाग के स्वतन्त्र प्रभार मंत्री रवीन्द्र जायसवाल ने दी। उन्होंने बताया कि अब युवा अपनी घर या दुकान कहीं से भी स्टाम्प की बिक्री कर सकता है। अब सौ रुपये से नीचे यानी 10 रुपये का भी ई-स्टांप मिलेगा। ई-स्टांप वेंडर के रूप में 10 हजार लोगों को रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है। रवीन्द्र जायसवाल ने कहा कि अभी पायलट प्रोजेक्ट के रूप में बाराबंकी जनपद को चुना गया है और इसकी सफलता पर पूरे प्रदेश में इस व्यवस्था को लागू किया जाएगा।

रजिस्ट्री कार्यालय में नहीं लगेगी भीड़

बाराबंकी जनपद में आये उत्तर प्रदेश सरकार के स्टाम्प एवं पंजीयन शुल्क विभाग के स्वतन्त्र प्रभार मन्त्री रविन्द्र जायसवाल ने बताया कि रजिस्ट्री कार्यालय पर संपत्तियों की खरीद-फरोख्त के लिए अभी तक जो भीड़ लगती थी वह अब नहीं लगेगी। उत्तर प्रदेश सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के तहत बाराबंकी का चयन किया है। जहां सम्पत्ति का विवरण, उस पर लगने वाला स्टाम्प आदि की जानकारी घर बैठे डिजिटल रूप से मिल जाएगी और अपनी रजिस्ट्री का समय भी आप ऑनलाइन ले सकेंगे। जिससे ऑफिस में अनावश्यक भीड़ नहीं लगेगी और समय रहते काम हो जाएगा।

घटाया निबंधन शुल्क

रविन्द्र जायसवाल ने बताया कि पहले निबंधन शुल्क 2 प्रतिशत लगता था, अब योगी सरकार ने उसे घटाकर 1 प्रतिशत कर दिया है। रजिस्ट्री ऑफिस में अब कैश लाने की जरूरत नहीं है। बल्कि बगैर कोई पैसा जेब में लाये आपकी रजिस्ट्री हो जाएगी। यहां तक कि आप निबन्धन शुल्क भी ऑनलाइन भर सकेंगे। जिससे नकदी के गिरने, उसके चोरी हो जाने के डर से निजात मिल जाएगी।

युवाओं को मिलेगा रोजगार

युवाओं को इससे रोजगार देने की बात कहते हुए रविन्द्र जायसवाल ने बताया कि अब प्रदेश का युवा कहीं से भी स्टाम्प की बिक्री कर सकता है। सरकार उन्हें स्टाम्प वेन्डर के रूप में नियुक्त कर उन्हें रोजगार से जोड़ने का काम करेगी। युवा चाहे तो अपनी दुकान पर या अपने घर पर स्टाम्प वेन्डर का काम कर सकते हैं। रविन्द्र जायसवाल ने कहा कि अभी पायलट प्रोजेक्ट के रूप में बाराबंकी जनपद को चुना गया है और इसकी सफलता पर पूरे प्रदेश में इस व्यवस्था को लागू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अब सौ रुपये से नीचे यानी 10 रुपये का भी ई-स्टांप मिलेगा। ई-स्टांप वेंडर के रूप में 10 हजार लोगों को रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है।



Advertisement