सेना के पूर्व कैप्टन की हत्या के मामले में दो को उम्र कैद

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर। सेना के पूर्व कैप्टन तरजपाल सिंह हत्याकांड में सहारनपुर की एक अदालत ने दो आरोपियों को आरोप सिद्ध होने पर आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। दोनों पर न्यायालय ने 31 हजाार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।

यह भी पढ़ें: Good News: अब राशन की दुकान पर जमा करें बिजली या टेलीफोन का बिल

4 जून 2018 को कोतवाली देवबंद क्षेत्र के गांव रणखंडी में सेना के पूर्व कैप्टन तरजपाल सिंह की फावड़े से काटकर हत्या कर दी गई थी। सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता अजीत शर्मा के अनुसार इस वारदात के बाद पूर्व कैप्टन तरजपाल सिंह के बेटे प्रदीप पुंडीर ने देवबंद कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। प्रदीप भी सेना में ही तैनात हैं।

यह भी पढ़ें: Zomato का डिलीवरी ब्वॉय निकला चोर गैंग का मास्टरमाइंड, सिर्फ रेसिंग बाइक को ही बनाता था निशाना

पुलिस काे दी तहरीर में प्रदीप पुंडीर ने पुलिस काे बताया कि उनके पिता खेत में फसल की सिंचाई कर रहे थे। इसी दौरान उनकी हत्या कर दी गई। तरजपाल सिंह का शव सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाईवे पर यादगार पुल रेलवे फाटक के पास पड़ा मिला था। इस हत्याकांड में गांव के ही देवेंद्र और सुभाष समेत कई लोगों पर हत्या का आरोप लगा था। पुलिस ने नामजद दोनों आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट अदालत में दाखिल की थी। इस मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट संख्या 9 कल्पना पांडे की अदालत में सुनवाई हुई और दोनों आरोपियों को आरोपी मानते हुए अदालत में आजीवन कारावास की सजा सुनाई।


पुलिस पर लगे थे आरोप
इस मामले में वर्ष 2019 में तरजपाल सिंह के बेटे प्रदीप पुंडीर ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया था। इस वीडियो में उसने कहा था कि पुलिस इस मामले में सही जांच नहीं कर रही है। उनके पिता के हत्यारोपियों को बचाने की कोशिश की जा रही है। इतना ही नहीं वायरल वीडियो में प्रदीप ने यह भी कहा था कि अगर आरोपियों को सजा नहीं मिली तो वह राष्ट्रपति से परिवार समेत इच्छा मृत्यु की मांग करेंगे।



Advertisement