ऑनलाइन शोपिंग करने से पहले जरूर जान लें ये बात, नहीं तो भुगतना पड़ सकता है अंजाम

नोएडा। अगर आप भारी डिस्काउंट और कम कीमत पर सामान खरीदने की चाहत रखते हैं, तो सावधान हो जायें। कारण, इसी कमजोरी का फायदा उठाकर नोएडा में साइबर ठगों का गैंग लोगों को चुना लगाने में लगा हुआ है। थाना फेज 2 पुलिस ने ऐसे ही चार साइबर ठगों को पकड़ा है। जो फर्जी तरीके से अमेजॉन कंपनी के माध्यम से लोगों को सस्ते में समान बेचने के नाम पर ठगी करते थे। इनके पास से पुलिस ने ठगी के एक लाख 22 हजार रुपए, एक बाइक और 9 मोबाइल फोन बरामद किए हैं। आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

पुलिस की गिरफ्त में आए अब्दुल हन्नान, नागफनी, सुहेब हसन, निशांत आलम हैं। ये शातिर किस्म के साइबर ठग है। थाना फेज 2 पुलिस ने सूचना पर मंडी कट दादरी रोड से गिरफ्तार किया। एडीसीपी, सेंट्रल जोन अंकुर अग्रवाल ने बताया कि फेस-2 थाना पुलिस को कुछ दिनों पहले गांव गेझा निवासी रजाउल हक ने थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि निशांत नाम के एक व्यक्ति ने फर्जीवाड़ा कर उनके खाते से 3 लाख रुपये निकाल लिये है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू की और एक सूचना के आधार पर मंडी कट दादरी रोड पर घेराबंदी कर चार साइबर ठगों को गिरफ्तार किया है।

एडीसीपी ने बताया कि पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपी सोशल साइट पर आईफोन व अन्य महंगे गैजेट को सस्ते दामों में बेचने का झांसा देते थे। इसके बाद जब खरीदार व्यक्ति इनसे संपर्क करता था, तो उसे झांसे में लेकर फर्जी कार्ड से प्रोडेक्ट को बुक करते थे। फिर फर्जी स्क्रीनशॉट भेज देते थे। फर्जी कार्ड होने के कारण ऑर्डर 5 मिनट मे। कैंसिल हो जाता था, लेकिन इस बीच जो फर्जी स्क्रीनशॉट भेज वह पैसा अपने खातों में ट्रांसफर करा लेते थे। इसके बाद उस खरीदार के पास ना तो पैसा पहुंचता था और ना ही प्रोडक्ट।

उन्होंने बताया कि यह लोग पिछले चार माह से नोएडा में रहकर ठगी कर रहे थे। अब तक की जांच में लगभग 20 से अधिक लोगों से ये आरोपी लाखों रुपए की ठगी कर चुके हैं। इन आरोपियों में कुछ ग्रेजुएट है और कुछ ग्रेजुएशन कर रहे हैं। जल्दी पैसे कमाने की चाहत में इन्होंने इस रास्ते को चुना।



Advertisement