अब थानों से गुम नहीं हाेंगे शिकायती पत्र, थाने आने वाले हर फरियादी काे मिलेगी रिसीविंग, जानिए नया नियम

पत्रिका न्यूज नेटवर्क, सहारनपुर। पुलिस थानों में अब फरियादियों के शिकायती पत्र गुम नहीं हाेंगे। थाने पहुंचने वाले हर फरियादी काे अब शिकायती पत्र की रिसीविंग मिलेगी। यानी अब चाहकर भी पुलिसकर्मी थाने पहुंचने वाले फरियादियों ( Complainant ) के शिकायती पत्र काे टेबल के नीचे नहीं रख सकेंगे। अब उन्हे हर फरियादी की फरियाद पर जांच करनी कर अपनी आख्या देनी हाेगी।

यह भी पढ़ें: गन पॉइंट पर कांस्टेबल ने महिला से किया रेप तो थाना इंचार्ज समेत 5 पुलिसकर्मियों पर हुई सख्त कार्रवाई

महिला सम्बंधी अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए डीजीपी उत्तर प्रदेश एसचीसी अवस्थी ( up police ) ने प्रदेशभर के थानों में यह व्यवस्था शुरू की है। इस नई याेजना के तहत प्रत्येक थाने पर एक महिला हेल्प डेस्क ( help desk ) हाेगी। इस हेल्प डेस्क पर थाने पहुंचने वाली प्रत्येक महिला फरियादी की बात काे सुना जाएगा और शिकायती पत्र काे लिया जाएगा। यानी शिकायती पत्र काे अब पुलिसकर्मी अपनी जेब में रखकर नहीं घूम सकेंगे। इसके लिए हेल्प डेस्क पर ही शिकायती पत्र काे स्कैन किया जाएगा और उसकी कॉपी कम्प्यूटर में सुरक्षित की जाएगी।

यह भी पढ़ें: सहारनपुर जातीय हिंसा: तत्कालीन प्रमुख सचिव व डीएम के खिलाफ मामला दर्ज

इसके बाद शिकायती पत्र का यूनिक आईडी नंबर बनेगा जाे संबंधित हल्का दराेगा या जांच अधिकारी काे और फरियादी महिला काे दिया जाएगा। यही नंबर एक तरह से शिकायती पत्र की रिसीविंग ( receive ) हाेगी। इसके बाद फरियादी महिला फाेन पर ही संपर्क करके यूनिक नंबर के शिकायती पत्र में हुई जांच और प्रगति के बारे में पूछ सकेंगी। अगर महिला फरियादी संतुष्ट नहीं हैं ताे वह इसी नंबर काे बताकर अफसरों काे शिकायत कर सकेंगी।

यह भी पढ़ें: बिजनाैर पहुंचे आप सांसद संजय सिंह ने कहा अपराध राेकने में असफल याेगी सरकार करा रही फर्जी मुकदमें

यह यूनिक नंबर यानी टाेकन नंबर एक रसीद पर लिखा हाेगा। इस रसीद पर प्रार्थना पत्र में कही हुई बातों का विवरण और जांच अधिकारी से लेकर फिरयादी के नाम समेत अन्य सभी जानकारियां अंकित हाेंगी। इस तरह अब पुलिस यह बहाना नहीं बना सकेगी की शिकायती पत्र मिला नहीं अब पुलिस काे प्रत्येक शिकायती पत्र पर काम करना हाेगा और उसका रिकार्ड भी रखना हाेगा। उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया एचसी अवस्थी ने 19 अक्टूबर तक प्रदेशभर के सभी थानों में यह व्यवस्था शुरू करने के निर्देश दिए हैं।



Advertisement