हाथरस कांड: पिड़िता का भाई बोला- न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा, अब मिलेगी बहन के कातिलों को सजा

हाथरस. सर्वोच्च न्यायालय ने हाथरस कांड की निगरानी हाईकोर्ट को सौंपी है, जो पीड़ित परिवार और गवाहों की सुरक्षा के साथ ही जांच से जुड़े हर पहलू पर नजर रखेगा। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले की पीड़ित परिवार ने सराहना करते हुए न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा जताया है। मृतका के पिता कहनाा है कि हमारे साथ हुए अन्याय को सभी ने देखा है। हमने बेटी खोई है, हम अपने दर्द को बयां नहीं कर सकते हैं। हमारी मांग है कि बेटी के हत्यारों को सख्त से सख्त सजा मिले।

वहीं, बिटिया के बड़े भाई ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है। अब हमें पूरा विश्वास है कि न्यायपालिका अन्याय नहीं होने देगी। हाईकोर्ट की देखरेख में बहन के कातिलों को सजा जरूर मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में हम जल्द ही अपने अधिवक्ता से बात करेंगे।

यह भी पढ़ें- शर्मनाक! चचेरे भाई ने ही नाबालिग बहन से किया बलात्कार, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ़्तार

हफ्तेभर में सीआरपीएफ संभालेगी सुरक्षा की जिम्मेदारी

बता दें कि पीड़ित परिवार और गवाहों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सुप्रीम कोर्ट ने सीआरपीएफ को सौंपी है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और सीआरपीएफ से हफ्तेभर में सुरक्षा व्यवस्था संभालने के लिए कहा है। फैसले में साफ कहा गया है कि राज्य सरकार ने भी पीड़ित परिवार व गवाहों की सुरक्षा के लिए समुचित कदम उठाए, लेकिन पीड़ितों और इससे जुड़े लोगों का आत्मविश्वास को बनाए रखने के लिए सीआरपीएफ को सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी जाती है, इसे अन्यथा न लिया जाए। वहीं, केस को यूपी से बाहर दिल्ली ट्रांसफर किए जाने के सवाल पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उचित होगा कि पहले सीबीआई जांच पूरी करते हुए रिपोर्ट सौंपे। इसके बाद आकलन करते हुए तय किया जाएगा। कोर्ट ने कहा है कि पूरे मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ही निगरानी करेगा।

कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच बिटिया के परिजनों ने काटी बाजरे की फसल

आखिर लंबे इंतजार के बाद बिटिया के परिजनों ने कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच खेत में पड़ी बाजरे की फसल काट ली है। इस दौरान स्थानीय पुलिस के साथ ही पीएसी के जवान भी तैनात रहे। परिजनों ने ट्रैक्टर और थ्रेसर के जरिये बाजरा निकाला। इस दौरान खेत पर चारों तरफ पुलिस और पीएसी के जवान तैनात थे। बाजरा निकालने के लिए बिटिया के माता-पिता, दोनों भाई, बुआ और मामा खेत पहुंचे। प्रशासन की अनुमित के बाद परिजनों ने अपनी फसल काटी।

यह भी पढ़ें- विकास दुबे के करीबियों पर कसता जा रहा शिकंजा, लाइसेंस निरस्त कर सभी के जब्त किये गए असलहे



Advertisement