यूपी उपचुनाव के लिए बीजेपी कैंडिडेट की लिस्ट फाइनल, जानें सात विधानसभा सीटों पर किस किसको मिलेगा टिकट

लखनऊ. यूपी की सात विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की बैठक में प्रत्याशियों को लेकर लंबा मंथन चला। हर सीट पर दो या तीन संभावित उम्मीदवारों के नामों का पैनल तैयार कर लिया गया है। अब उम्मीदवारों के इस पैनल की इस लिस्ट को राष्ट्रीय नेतृत्व को भेजने के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अधिकृत किया गया है। जबकि उम्मीदवारों की लिस्ट को लेकर आखिरी फैसला दिल्ली में ही होगा। साथ ही इस बैठक में चुनावी की तैयारी को तेज करने के लिए सभी की एक राय बनी।

बैठक में तैयार हुआ नामों का पैनल

सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी और स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में गुरुवार शाम को करीब एक घंटे तक चली बैठक में उपचुनाव की सभी सीटों पर संभावित उम्मीदवारों के नामों पर विस्तार से चर्चा हुई। इस चर्चा में स्थानीय समीकरणों के साथ ही विपक्ष की ओर से घोषित उम्मीदवारों को भी ध्यान में रखा गया। सभी सातों क्षेत्रों में गए भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की रिपोर्ट को देखते हुए संभावित नामों पर विचार हुआ और उसके बाद दो या तीन संभावित उम्मीदवारों का पैनल तैयार किए गए। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अधिकृत किया गया कि वह राष्ट्रीय नेतृत्व को पैनल के नाम भेजने का फैसला लें। इस बैठक में दिल्ली से आए राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह भी मौजूद थे। बैठक में सलिल विश्नोई व संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना भी मौजूद थे।

नामों पर हुआ गहन मंथन

आपको बता दें कि विधानसभा उपचुनाव के प्रत्याशियों लिए पर्यवेक्षकों से प्रदेश अध्यक्ष और महामंत्री संगठन अलग-अलग बातचीत करके प्रत्येक विधानसभा सीट के बारे में विस्तार से पड़ताल की। जो सीटें विधायकों के निधन से खाली हुई हैं वहां उनके परिवारीजन के नामों पर भी विचार किया गया। सूत्रों के मुताबित जातीय और स्थानीय समीकरणों को देखकर उम्मीदवारों के नामों पर आखिरी फैसला केंद्रीय नेतृत्व पर ही छोड़ दिया गया।

विपक्ष की तैयारी पर रखें नजर

बैठक के दौरान सीएम योगी ने सभी सीटों को जीतने की बात कही साथ ही वहां संपर्क अभियान को तेजी देने और विपक्ष की तैयारी पर नजर रखने के लिए कहा। जबकि महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने बूथ स्तर पर संगठनात्मक तैयारी मजबूत करने के साथ बराबर संवाद बनाने रखने की रणनीति पर चर्चा की। इसके अलावा उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच आपसी समन्वय बनाने रखने पर जोर दिया। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि कार्यकर्ताओं के आत्मविश्वास को बनाए रखने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: घर बनवाने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी, तेजी से कम होने वाले हैं बालू-मौरंग के दाम, जानें नया रेट



Advertisement