काशी के 'मेरा घर मेरा स्कूल' का माडल पूरे प्रदेश में होगा लागू, सीएम योगी ने दिए निर्देश

वाराणसी. कोरोना काल में बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए वाराणसी के सेवापुरू ब्लॉक से 'मेरा घर मेरा स्कूल' मॉडल की शुरुआत की गई थी। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब पूरे प्रदेश में 'मेरा घर मेरा स्कूल' के वाराणसी मॉडल को लागू करेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसे पूरे प्रदेश में लागू करने के निर्देश दिए हैं। बीएसएस राकेश सिंह के अनुसार, कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन में स्कूल बंद हो गए थे। इससे बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही थी। ऐसे समय में बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए 'मेरा घर मेरा स्कूल' की शुरुआत की गई थी। योजना की शुरुआत स्कूल और किताबों से बच्चों की दूरी कम करने के लिए की गई थी।

80 प्रतिशत बच्चों को मिल रहा फायदा

योजना के तहत जिले के 80 प्रतिशत बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं। बच्चों को घर पर ही स्कूल जैसा माहौल उपलब्ध कराने के लिए टाइम टेबल भी तैयार किया गया है। इस पहल में शिक्षकों के साथ शिक्षामित्र, अनुदेशकों के साथ-साथ गांव के उत्साही युवाओं को भी जिम्मेदारी दी गई है। इन युवाओं को बाल पथिक व युवा पथिक का दर्जा भी दिया गया है। कोरोना काल खत्म होने के बाद स्कूल खोलने पर इन युवा पथिक और बाल पथिकों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले को बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से पुरस्कृत भी किया जाएगा। बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए विभाग की ओर से मोहल्ला पाठशाला भी संचालित की गई है।

ये भी पढ़ें: 16 लाख कर्मचारियों को योगी सरकार का तोहफा, त्योहार पर मिलेगा 'स्पेशल फेस्टिवल पैकेज'



Advertisement