यूपी में वर्दी नहीं पहनी तो जाएगी ड्राइवर कंडक्टर की नौकरी, वसूला जाएगा जुर्माना

लखनऊ. उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के ड्राइवर अब वर्दी में ही दिखेंगे। वर्दी नहीं पहनी तो उन्हें जुर्माना भरना पड़ेगा। यही नहीं उनकी बर्खास्तगी भी हो सकती है। यूपी परिवहन निगम इसको लेकर बेहद सख्त हो गया है। निगम ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि 13 बिंदुओं पर बसों की जांच हो या फिर चालकों और परिचालकों को वर्दी पहनने की अनिवार्यता। इसमें लापरवाही या मनमानी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मुख्य प्रधान प्रबंधन (संचालन) की ओर से बिना वर्दी के ड्राइवर-कंडक्टर पर न सिर्फ जुर्माना लगाने बल्कि नौकरी से बर्खास्त करने के आदेश जारी किये हैं।

 

आदेशानुसार उत्तर प्रदेश का चाहे कोई भी बस अड्डा हो या फिर किसी भी डिपो के ड्राइवर कंडक्टर हों, उन्हें वर्दी की अनिवार्यता का पालन हर हाल में करना होगा। अगर दो बार बिना वर्दी के मिले तो उनपर जुर्माना लगाने की कार्रवाई की जाएगी। जुर्माना राशि उन्हीं के वेतन से काटी जाएगी। उसके लिये संबंधित डिपो के एआरएम को पत्र भेजा जाएगा। दो बार के बाद यदि तीसरी बार ड्राइवर या कंडक्टर बिना वर्दी मिल गए तो इस बार जुर्माना नहीं बल्कि नौकरी से बर्खास्त किया जाएगा। संविदा चालकों और परिचालकों को तो नौकरी से निकाल दिया जाएगा। नियमित चालक परिचालकों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी।

 

निगम की सख्ती के बाद परिवहन निगम के संविदा कर्मचारी संघर्ष यूनियन का कहना है कि वर्दी मिल जाए तो रोज पहनेेंगे। यूनियन के महामंत्री कन्हैया पाण्डेय ने मीडिया को बताया है कि वर्दी दो साल पहले मिली थी। रोजाना पहनने से वर्दी फट गई है। उनकी मांग है कि हर साल दो जोड़ी वर्दी दी जाए तो रोजाना वर्दी पहनकर ड्यूटी करेंगे।



Advertisement