खेत मे शौच करने पर उपजे विवाद में गांव के लोगों ने कुल्हाड़ी दलित पर हमला कर काटा कान

ललितपुर. सुबह के समय खेत में शौच करने गए एक दलित युवक पर गांव के उच्च जाति के लोगों ने कुल्हाड़ी से हमला कर उसके कान काट दिए। मामले की शिकायत पुलिस में करने पर पीड़ित व्यक्ति को ही समझौता करने की राय दे दी गई। पुलिस ने पीड़ित व्यक्ति के शिकायती पत्र को दरकिनार करते हुए आरोपियों पर कार्रवाई नहीं की जिससे उनके हौसले बुलंद हैं। पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने पर पीड़ित को घटना के तीन दिनों से थाने के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

यह है पूरा मामला

थाना पूराकला क्षेत्र अंतर्गत बुदावनी निवासी सुंदर अहिरवार ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर अवगत कराया कि वह अपनी बहन के गांव चौबारा में जवारे विसर्जन के लिए गया हुआ था। रात्रि विश्राम के बाद जब वह सुबह शौच के लिए गांव के बाहर एक खेत में गया, तो वहां पर खेत के मालिक परसू के साथ उसके पुत्र अशोक, दिनेश और फेरन आ गए और वहां पर जमकर गाली-गलौज करने लगे। जब उसने गाली गलौज का विरोध किया तो सभी ने एक राय होकर उसके साथ लाठी-डंडों से मारपीट शुरू कर दी। इस बीच परसू ने कुल्हाड़ी से हमला भी कर दिया। कुल्हाड़ी के हमले का बचाव करते हुए जब सुंदर पीछे हटा तो कुल्हाड़ी उसके कान में लगी और उसका कान कट गया। कनकटते ही खून की धार फूट पड़ी जिस पर सभी विपक्षी जमकर गाली-गलौज कर जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से भाग खड़े हुए। उसी हालत में वह थाना पूराकला पहुंचा जहां पर थानेदार ने उसे समझा-बुझाकर इलाज कराने के बहाने भेज दिया और जब इलाज कराकर वह आरोपियों पर मामला दर्ज कराने पहुंचा तब वहां पर उसका मामला दर्ज नहीं किया गया और न ही उसकी कोई सुनवाई हुई। शिकायती पत्र के माध्यम से उसने पक्षियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाी करने की मांग उठाई है।

ये भी पढ़ें: एक कॉल से दूर होगी स्मार्ट मीटर से जुड़ी समस्या, हेल्पलाइन नंबर जारी



Advertisement